न्यू तिनसुकिया-बेंगलुरु एक्सप्रेस में लगेंगे ये कोच, दुर्घटना की स्थिति में होगा कम नुकसान

lhb-coaches
lhb-coaches
Advertisement

पटना। रेलयात्रा को पहले से और जयादा सुरक्षीत बनाने ओर इसकी रफ्तार को ओर गति देने को लेकर रंलवे ने बड़ा फैसला किया है। रेलवे ने इसके लिए अब ट्रेनो में एलएचबी यानि लिंक हॉफमैन बुश कोच लगाने का फैसला किया है। बता दे किशनगंज से होकर गुजरने वाली 22501-22502 न्यू तिनसुकिया-बेंगलुरु एक्सप्रेस से इसकी शुरुआत होने जा रही है।

आपको बता दे कि ऐसा अपनेआप में पहली ऐसी ट्रेन होंगी जो नएफ (नॉर्थ-ईस्ट फ्रंटियर) रेलवे के अधीन एलएचबी तकनीक से लैस होगी। एनएफ रेलवे के सीपीआरओ (चीफ पब्लिक रिलेशंस ऑफिसर) प्रणव ज्योति शर्मा कि माने तो जर्मनी से प्राप्त तकनीक के आधार पर अत्याधुनिक एलएचबी कोच का निर्माण किया जा रहा है। इस तकनीक में स्टील और एल्युमिनियम से कोच का निर्माण किया जाता है। इससे दुर्घटना या टक्कर होने की स्थिति में कोच नहीं मुड़ेगी, जिस कारण जान-माल का नुकसान भी काफी कम होगा।

ये भी पढे़ं:-   आज से देश भर में हड़ताल पर है ट्रांसपोर्टर्स, बढ़ सकती है परेशानियां

सीपीआरओ के अनुसार इस तकनीक से बने कोच काकि हल्के होते है। इस कारण ट्रेन की रफ्तार भी पहले की अपेक्षा काफी बढ़ जाएगी। न्यू तिनसुकिया-बेंगलुरु एक्सप्रेस 160-200 किलोमीटरध्घंटा की स्पीड से दौडने लगेगी। रेलवे की योजना जल्द ही सभी ट्रेनों को एलएचबी तकनीक से लैस करने की है। एलएचबी कोच की लंबाई 23.54 मीटर तथा चैड़ाई 3.24 मीटर है।

Advertisement