04, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

बिहार के विकास कि पोल खोलता एक गाँव जो आज भी है अँधेरे में गुम

bijili

demo

मो हसनैन कि रिपोर्ट

शिवहर 17 नवंबर। जी हाँ शिवहर के माली पोखरभिंडा पंचायत का एक गाँव है श्रीपुर, दुम्मा हिरौता पंचायत का एक गांव है बंकुल इत्यादि कई ऐसे गाँव है जहाँ आजादी के 70 वर्षों बाद भी आज तक बिजली नहीं पहुँच पायी है। लोग आज भी ढिबरी युग में जीने को बेबस हैं। जरा सोचिये इस आधुनिक युग में बिना बिजली के लोगों का जीवन कैसा होगा। लोग बिजली विभाग के चक्कर लगा लगा कर उमीद छोड़ चुके हैं।लोग अब ये मानते हैं कि इस भ्रष्ट तंत्र में उनके ढिबरी युग का अंत नही हो पायेगा। मिली जानकारी के मुताबिक बहुत से गाँव तो ऐसे भी हैं जहाँ अभी भी ग्रामीण ढिबरी की रौशनी में जीने पर मजबुर हैं। कई गाँव तो ऐसे भी हैं जहाँ बिजली की सारी सुविधा आ चुकी है पर टाईम टेबल से बिजली नही आती है। कई गाँव तो ऐसे हैं जहाँ बिजली का बिल भी आता है पर बिजिली नहीं आती।
आप सोच रहे होंगे कि इसका जिम्मेदार कौन है? तो सीधी सी बात है इसके जिम्मेदार शिवहर के जन प्रतिनिधि एवं अधिकारी हैं। जिनको जनता की समस्या नजर नहीं आती है। इन गाँवों को भी शहर की तरह बिजली जल्द से जल्द दिया जाए। इस दौड में बिजली बहुत जरुरी है। बिजली होगी तो जनता अपनी जरुरत आसानी से पुरा कर सकती हैं। शिवहर जिला लोक निवारण केन्द्र में अभी भी एक तिहाई मामले बिजली के आ रहे हैं। मंगलवार को 9 मामले मे से 6 मामले सिर्फ बिजली शिकायत से जुड़े थे। तरियानी के माधोपुर छाता निवासी कृष्ण कुमार सिंह ने बताया कि चौथा तारीख है। बिजली विभाग के बीपीएल के तहत नया कनेक्शन मिला है। अभी भी 7 लोगो को कनेक्शन नही दिया गया है।
विरेन्द्र सिंह हरनाही ने बताया कि बिजली बिल ज्यादा आता है। 4 महीना से दौड़ रहा हूँ और अभी तक समस्या जस कि तस है। मीनापुर बलहा निवासी बुझावन सहनी ने बताया कि 13 वां रैंक है परन्तु इंदिरा आवास नही मिल रहा है।अपर समाहर्ता व जिला लोक निवारण पदाधिकारी मनन राम ने बताया कि 60 दिनों का नियत समय है। हम सभी आवेदनों पर सुनवाई कर रहे हैं तथा मामले का निष्पादन किया जा रहा है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME