हाथी पर बैठकर अब कर सकेंगे बाघों का दीदार, जानिए

elephant-in-valmiki-tiger-r
elephant-in-valmiki-tiger-r
Advertisement

बेतिया। बिहार के इकलौते टाइगर रिजर्व में आनेवाले शैलानियो को जल्द हीं अब हाथी की सवारी करते हुए बाघों के दीदार करने का मौका मिलेंगा। बता दे कि अभी तक इस रिर्जव फाॅरेस्ट में एकमात्र हाथी है। जिसके सहारे वाल्मीकि रिजर्व के कर्मचारी वन गस्ती करते हैं। लेकिन अब जल्द ही यहां चार नए हाथी और आनेवाले हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार ये नए हांथी कर्नाटक से खरीद कर वाल्मीकि रिजर्व लाए गए हैं। वहीं आठ हाथियों को अंडमान निकोबार से भी लाने की तैयारी जारी है। बता दें कि पड़ोसी देश नेपाल का ’चितवन नेशनल पार्क’ हाथियों की चैकड़ी के लिए दुनियाभर में मशहूर है। चितवन नेशनल पार्क की तर्ज पर वाल्मीकि रिजर्व के जंगल में हाथी सफारी की विशेष व्यवस्था की जा रही है। इतना हीं नही इन हाथियो का उपयोग वन विभाग तस्करों और शिकारियों से निपटने के लिए भी करेंगा।

ये भी पढे़ं:-   'जानिए बिहार में कितने एटीएम है 'और कितने एैसे "एटीएम" है जिनसे कभी नहीं निकते हैं नोट

नेपाल से आए एक्सपर्ट हाथियों को बिहारी कल्चर से लेकर वाल्मीकि रिजर्व के प्रावधानों का टिप्स सिखा रहे हैं। अगर योजना के अनुरुप इको टूरिज्म की नई व्यवस्था धरातल पर उतरती है तो बिहार की यह धरती फिर एक बार दुनियाभर के सैलानियों के लिए नया ठिकाना बन जाएगी। जहां हाथी सफारी के जरिए जंगल में बाघों का दीदार सैलानी कर सकेंगे।

Advertisement