10, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

पूजा-त्योहारों में नृत्यकला के नाम पर बढ़ रहा है आर्केस्ट्रा में अश्लीलता का प्रचलन !

bar-girl-1

बिहारशरीफ, 29 अगस्त। भारत में गीत संगीत और नृत्यकला को आराध्य का रूप माना गया है। चाहे भक्ति हो अथवा मनोरंजन हम इसका लाभ उठाने से वंचित नहीं रह पाते। हालांकि भारत वर्ष के विभिन्न क्षेत्रों में अनेकों प्रकार के गीत संगीत की रचना, माध्यम, और अपनी अपनी पहचान है। किन्तु बिहार ही एकमात्र ऐसा राज्य है जहाँ सभी मनोरंजन के माध्यमों का सम्मिलित रूप से लुफ्त उठाया जाता है।

लेकिन वहीं अगर मनोरंजन का ये माध्यम अश्लीलता का शिकार बन जाए तो क्या होगा ? सोचिये। हमारी संकृति को बेआबरू होने से कोई नहीं बचा सकता। एक समय था जब हमारे पूर्वज कला की पूजा आराधना करते थे और एक आज का दिन है जहाँ हम और हमारी पीढ़ी इसे मनोरंजन का एकमात्र साधन मानकर अश्लीलता के जंजीर में जकड़ कर रख दिए हैं।

इसका एक उदाहरण बिहारशरीफ में देखने को मिला है जहाँ जन्माष्टमी के मौके पर हुए एक कल्चरल प्रोग्राम में बार गर्ल्स के अश्लील नृत्य का वीडियो वायरल हो रहा है। बताया जा रहा है कि रात में कृष्णजन्म विधि संपन्न होने के बाद जैसे ही स्थानीय महिलाएं घर के लिए निकली, वहां अश्लील भोजपुरी गाने बजने के साथ ही स्टेज पर बार गर्ल्स का नृत्य आरम्भ हो गया। जैसे-जैसे देर रात होती गई, कार्यक्रम में अश्लीलता बढ़ती रही। डांस शो में लोग बार गर्ल्स पर जमकर पैसे लुटाने लगे। स्थानीय लोगों ने बताया कि होस्टल के बच्चों की मांग पर इस प्रकार का आयोजन किया गया था।

बताते चलें कि बिहार में या फिर पड़ोसी राज्यों में इस तरह के मौके पर अश्लील नृत्य के आयोजन की प्रस्तुति खबरों में रहती है। जो हमारे संस्कृति और रीति रिवाजों के खिलाफ है। कानून व्यवस्था ऐसी अश्लीलता पर अपना सिर झुकाए रहती है। आए दिन कुछ मुखिया तथा एमएलए भी इसका शिकार बनते नज़र आए थे। यदि राज व्यवस्था और वर्तमान पीढ़ी ही अपने संस्कृति को हानि पहुँचाने लगे तो सोचिए हमारी आने वाली पीढ़ी और उनकी संस्कारों का क्या हश्र होगा ?

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME