04, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

इस स्कूल के टीचर करते थे बच्चियों के साथ अनैतिक व्यवहार, परेशान लोगों ने स्कूल में लगा दिया ताला

school

newsofbihar.com डेस्क

सीवान, 24 नवम्बर। विद्या के मंदिर में अपने बच्चों को भेजकर अभिभावक चैन की सांस लेते हैं। लेना भी चाहिए क्यूंकि स्कूलों का कार्य ही है शिक्षादान और बच्चों का चरित्र निर्माण। लेकिन जब शिक्षक ही भक्षक बन जाए तो अभिभावकों का चिंतित होना लाजिमी है। जब बात बेटियों की इज्जत खतरे में होने की हो तो फिर पढ़ाई मायने नहीं रखती। ऐसा ही मामला बिहार के सीवान जिले के तरवारा के एक सरकारी स्कूल का है। यहां के टीचर पर लड़कियों की इज्जत के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगा था। बच्चियों की इज्जत बचाने के लिए ग्रामीणों ने स्कूल में ताला लगा दिया।

गांव के लोगों ने टीचर के खिलाफ आंदोलन कर दिया है। स्कूल में ताला लगाने वाले ग्रामीणों का कहना है कि जबतक ये टीचर स्कूल में रहेंगे, पढ़ाई नहीं होने देंगे। एक ग्रामीण ने कहा कि बच्चे हमलोगों के घर के हैं। उनका भविष्य खराब हो रहा है। यह हमें खुद दिखाई दे रहा है, लेकिन कम से कम जितने दिन तक वे टीचर नहीं आएंगे उतने दिन गांव की बच्चियां बलात्कार से तो बचेंगी। ग्रामीण ने कहा- हमारी कोशिश है कि कम से कम बलात्कार होने से रोका जाए। बच्ची की पढ़ाई थोड़ा डिस्टर्ब हो यह सह सकते हैं, लेकिन रेप होना बहुत अन्याय की बात है। इसलिए रेप की घटना रोकने के लिए हमलोगों ने तालाबंदी कर रखा है। जब तक इन टीचर्स की जगह पर नए टीचर्स की बहाली नहीं हो जाती तब तक सभी लोगों ने फैसला किया है कि स्कूल नहीं खुलने देंगे।

बताया जा रहा है कि गौतमबुद्ध नगर थाना क्षेत्र के राजकीय मध्य विद्यालय पिपरा में ग्रामीण 27 दिन पहले छेड़खानी के मामले में स्कूल से हटाए गए शिक्षकों के वापसी के मुद्दे पर आक्रोशित थे। ग्रामीणों का कहना था कि स्कूल से ट्रांसफर किए गए टीचर को किसी भी स्थिति में वापस आने नहीं देंगे। गौरतलब है कि 19 अक्टूबर को स्कूल के टीचर रजि अहमद को तीसरी क्लास की एक छात्रा से छेड़खानी करने पर ग्रामीणों ने बंधक बना लिया था। पुलिस ने रजि अहमद को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। इसके बाद ग्रामीण स्कूल के सभी शिक्षकों के तबादले पर अड़े हुए थे। ग्रामीणों के अनुसार छेड़खानी के बाद BEO सूर्य प्रकाश प्रखंड और BDO डॉ. संजय कुमार ने ग्रामीणों की मांग पर सभी टीचर का तबादला राजकीय मध्य विद्यालय सुरवाल में कर दिया था, लेकिन शिक्षा विभाग की मिलीभगत से फिर सारे लोगों को एकाएक यहां ला दिया गया।

वहीं प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी सूर्य प्रकाश ने बताया कि समस्या का हल ग्रामीणों से मिल जुलकर निकाला जाएगा। आए दिन हंगामा होने के चलते विद्यालय में पठन-पाठन प्रभावित हो रहा है और बच्चों का भविष्य दांव पर लगा है। ग्रामीणों से मिल जुलकर इस समस्या का स्थाई समाधान निकाल दिया जाएगा। विभाग के आदेश की अवहेलना किसी भी स्थिति में नहीं की जाएगी।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME