03, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

राहत शिविर में पंहुचे मुख्यमंत्री, अधिकारियों से कहा आलू का चोखा नहीं सब्जी दीजिये !

edfrgtdhjnftu

बाढ़ पीड़ितों से मिले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

पटना,26 अगस्त। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जलसंसाधन मंत्री ललन सिंह के साथ बाढ़ राहत शिविरों का दौरा किया। बाढ़ पीड़ितों को सरकार द्वारा दी जा रही सुविधाएँ पीड़ितों को मिल रही है या नहीं इसकी जांच पड़ताल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राहत कैंप में जाकर खुद सभी से पूछा। सीएम ने बख्तियारपुर के घोसवरी और अथमलगोला के रामनगर, सबनीमा, सहित अन्य जगहों पर राहत शिविरों में लोगों से बात की। बाढ़ पीड़ितों ने शिविर में अनियमितता और लापरवाही की शिकायत की है। निरिक्षण के दौरान बाढ़ पीड़ितों ने नीतीश कुमार को बताया कि उनके आने से चार घंटे पहले ही मेडिकल कैंप लगाया गया है।

आपको बताते चले कि राहत शिविरों और बाढ़ प्रभावित इलाकों में लापरवाही की खबर मिलते ही सीएम आक्रोशित हो गए। उन्होंने बाढ़ पीड़ितों से कहा कि इस संकट की घड़ी में सरकार आपके साथ है। नाराज सीएम ने अधिकारियों को चेटावनी देते हुआ कहा कि आपदा प्रबन्धन में लापरवाही हुई तो दोषी अधिकारियों को अंदर किया जाएगा। नीतीश ने अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि ज्यादा फार्मैलिटि मत करिए, थोड़ी भी लापरवाही हुई तो सब अंदर होंगे। सीएम ने कहा कि गंगा का पानी इतनी आसानी से नहीं निकलने वाला और अभी काफी दिनों तक न सिर्फ सतर्कता बरतनी होगी बल्कि राहत कार्य भी चलाना होगा।

वहीं मनेर स्थित राहत शिविर कैंप में नीतीश कुमार के साथ पूरा प्रशासनिक महकमा मौजूद था। नीतीश ने चलते हुए सबसे पहले महिलाओं से पूछा कि आपको खाना खाया, जवाब मिला खा लिया। उसके बाद उन्होंने खाने को लेकर अधिकारियों को कई दिशा निर्देश दिया। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि सब्जी में सिर्फ आलू मत दीजिये, सब्जी में सोयाबीन और परोर भी बदल-बदल कर दिजिए।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

ऐक विचार साझा हुआ “राहत शिविर में पंहुचे मुख्यमंत्री, अधिकारियों से कहा आलू का चोखा नहीं सब्जी दीजिये !” पर

  1. lalit singh August 27, 2016

    bihar jesa neta har rajy mee ga to samjo india kahtm ho jayega

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME