08, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

रैनकट खोल रहा विभागीय अनियमियतता की पोल!

रवि रोशन की रिपोर्ट

सुपौल , 01 जुलाई। छातापुर में बीते कुछ महीनों से हो रही बारिश के कारण ग्रामीण सड़कों की स्थिति बद से बदतर हो गई है। जिसके फलस्वरूप सड़क निर्माण के दौरान संवेदकों की ओर से बरती गई लापरवाही साफ दिख रही है। ग्रामीण कार्य विभाग की देख-रेख में बनाए गए सड़कों में लग रहे रैनकट ने सड़क के अस्तित्व को खतरे में डालने के साथ ही विभागीय अनियमितता की पोल को खोलकर रख दिया है। साथ ही यह साफ दिख रहा है कि संबंधित कार्य एजेंसी के तरफ से मेंटनेंस के नाम पर रैनकट की मरहम पट्टी कर उसके खामियों को छुपाने की पुरजोर कोशिश की जा रही है।

बताया जा रहा है कि कुशहा त्रासदी के बाद हाल के ही कुछ वर्षों में प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना एवं मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के अलावे कोशी फ्लड रिकवरी प्रोजेक्ट के तहत विश्व बैंक के सहयोग से दर्जन भर से अधिक पक्की सड़कों का निर्माण कराया गया। लेकिन निर्माण कार्य के दौरान विभागीय स्तर से निगरानी का घोर अभाव रहा। जिसका नतीजा यह हुआ कि संवेदकों ने अपनी मनमर्जी करते हुए कार्य को अंजाम दिया।

वहीं टेंडर के अनुसार सड़क को उंचा करने के बजाए संवेदकों ने पूर्व से निर्मित सड़क के स्तर पर बिना मिट्टी डाले घटिया जीएसबी बिछाकर कालीकरण करवा दिया। हालांकि निर्माण कार्य के दरम्यां स्थानीय लोगों ने इस घटिया कार्य का विरोध करते हुए इस गुणवत्ता विहीन कार्य की शिकायत विभागीय कनीय अभियंता से लेकर कार्यपालक अभियंता तक की। जिसके परिणामस्वरूप कई बार काम को रोका भी गया। लेकिन कुछ दिन कार्य बाधित होने के बाद वापस से विभागीय संवेदक और उनके कर्मियों ने अपनी ताकत का प्रदर्शन कर कार्य को अपने मुताबिक पूरा करवा लिया। जिसके कारण टेंडर के विरूद्ध बनाई गई कई ग्रामीण सड़कों पर पानी चढ़ गया है। मिली जानकारी के अनुसार फ्लेंक में मिट्टी के अभाव में अनेकों जगह रैनकट लग रहा है। जगह-जगह रैनकट की वजह से स्थिति इतनी खराब हो चुकी है कि इस बरसात के बाद ही सड़क का वजूद पूरी तरह मिट सकता है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME