समस्तीपुर में राजद नेता की हत्या, तेजस्वी बोले – सत्ता संरक्षित गुंडों को संभालिए नीतीश जी

Advertisement

सेंट्रल डेस्क: साहुल पाण्डेय: बिहार में लगातार अपराध का ग्राफ बढ़ता जा रहा है. लगतार बिहार में अपराधिक घनाओं के बढ़ने से जनता में एक बार फिर से जंगलराज की यादें ताजा हो चुकी हैं. क्या आम और क्या खास बिहार में तो नेता तक सुरक्षित नहीं हैं. आज सुबह बिहार के समस्तीपुर जिले से बड़ी अपराधिक घटना सामने आई है. यहां अपराधियों ने एक राजद नेता को दिनदहाड़े गोली मारकर उनकी हत्या कर दी है.

सैर पर गए हुए थे आरजेडी नेता, तभी अपराधियों ने मारी गोली

प्राप्त जानकारी के अनुसार गुरुवार की सुबह – सुबह अपराधियों ने इस घटना का अंजाम दिया है. इस घटना को अपराधियों ने उस वक्त अंजाम दिया जब राजद नेता और पूर्व जिला परिषद उपाध्यक्ष रघुवर राय मोर्निंग वॉक पर निकले थे. इसी दौरान अपराधियों ने उनपर धावा बोल दिया और गोली मार दी.गोली लगने के बाद गंभीर रूप से घायल हुए राजद नेता को इलाज के लिए डीएमसीएच भेजा गया. जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई.

राजद नेता को गोली लगने की खबर आग की तरह फली और स्थानीय लोग आक्रोशित हो उठे. जिसके बाद गुस्साए लोगों ने समस्तीपुर-दरभंगा हाईवे को जाम कर दिया है. स्थानीय लोग अपराधियों को जल्द पकड़ने की मांग कर रहे है. वहीं लोग पुलिस प्रशासन पर भी सवाल उठा रहे हैं.

तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर बोला हमला

वहीं इस मामले में अब राजनीति भी शुरू हो चुकी है. राजद नेता और बिहार विधानसभा में नेता विपक्ष तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर हमला बोला है. तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार से सवाल पूछा है कि वे बताएं कि आखिर बिहार में विपक्षी पार्टियों के लीडरों की हत्या क्यों हो रहीं है.

तेजस्वी यादव ने इस पूरे मामले में अपने ट्वीटर पर पोस्ट करते हुए नीतीश कुमार से सवाल पूछा है और हमला भी बोला है. सीएम नीतीश कुमार पर तंज़ कसते हुए तेजस्वी ने लिखा — नीतीश कुमार जी, सत्ता संरक्षित गुंडों को संभालिए. किस बात और किस काम के गृहमंत्री बने कुर्सी से चिपक कर बैठे हैं? आपके द्वारा संरक्षित अपराधी रालोसपा और राजद के नेताओं की चुन-चुन कर हत्या कर रहे हैं लेकिन आजतक आपकी ज़ुबान का ताला नहीं खुला है. घोर निंदनीय…

बताते चलें कि समस्तीपुर में राजद नेता की हत्या क्यों की गई इस बात के पीछे क कारणों को अभी तक कोई पता नहीं चल सका है. मामले की जानकारी स्थानीय पुलिस को दी गई है. जिसके बाद जिले के कई बड़े अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे हैं. वहीं ग्रामीणों को शांत करने का प्रयास किया जा रहा है.