10, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

समस्तीपुर : एक पैक्स अध्यक्ष का कमाल का विजन, इस युवक से कुछ तो सीखिए सांसद-विधायक जी !

plants

newsofbihar.com डेस्क, 21 अक्टूबर। समस्तीपुर के विद्यापति प्रखंड के ग्राम पंचायत बढ़ौना पैक्स के द्वारा किया जा रहा कार्य एक नजीर बनकर सामने आ रहा है। बढ़ौना पैक्स अध्यक्ष कुणाल कुमार द्वारा बढ़ौना पैक्स आपके द्वार नाम से कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इस कार्यक्रम को कुछ लोग एक सदस्य एक पेड़ का भी नाम दे रहे हैं। दरअसल इस कार्यक्रम में पैक्स अध्यक्ष के द्वारा प्रत्येक घर से न्यूनतम एक सदस्य बनाया जा रहा है साथ ही उन्हें एक पौधा भी उपहार स्वरुप दिया जा रहा है। जो पुराने सदस्य हैं उनके घर पर भी पौधा लगाया जा रहा है। ये पौधा सागवान, मोहगनी एवं गम्हार का है। इस पौधे की खासियत है कि वर्तमान बाजार दर से 15 वर्ष में एक पेड़ की कीमत लगभग 25 हजार हो जाएगी। इस तरह न सिर्फ सदस्य आर्थिक रुप से मजबूत होगा बल्कि इससे पर्यावरण को भी लाभ होगा। इस कार्यक्रम का उद्येश्य न सिर्फ 100% सदस्यता अभियान है अपितु पैक्स सदस्यों की आर्थिक मजबूती, पर्यावरण संतुलन एवं 100% साक्षर पैक्स की भी परिकल्पना है।

पैक्स क्या है?

पैक्स अर्थात प्राथमिक कृषि साख सहयोग समिति लिमिटेड एक सहकारी संस्था है जो सरकार के द्वार संरक्षित है। इसके द्वारा समिति अपने सदस्यों के बीच अनुदानित दर पर खाद-बीज, धान आदि का व्यवसाय करती है। इसके लिए प्रत्येक 5 वर्ष पर चुनाव कराकर अध्यक्ष एवं कार्यकारिणी का चयन किया जाता है।

पैक्स अध्यक्ष कुणाल कुमार ने बताया कि अपने कार्यकर्ताओं के साथ हम अपने गांव के प्रत्येक घर तक पहुंच रहे हैं इस दौरान हम न सिर्फ सदस्य बना रहे हैं बल्कि हम एक सर्वे भी कर रहें हैं कि हमारे कौन-कौन सदस्य साक्षर हैं एवं कौन-कौन निरक्षर। जो निरक्षर हैं उन्हें कार्यकर्ताओं के माध्यम से साक्षर भी बनाया जा रहा है। हमारी कोशिश है कि मार्च 2016 से पहले बढ़ौना पैक्स को 100% साक्षर पैक्स बनने का गौरव मिले।

इस योजना में दिये जा रहे एक पौधे की कीमत करीब 7.50 रुपये होता है। इस संदर्भ में कुणाल कुमार ने बताया कि ये पौधा मैं निजी तौर पर खरीदकर बांट रहा हूं। अगर पर्यावरण विभाग इस योजना पर कार्य करे तो बेहतर होगा। हलाकि इस कार्यक्रम के लिए किसी सरकारी विभाग द्वारा किसी प्रकार का सहयोग नहीं मिल पा रहा है मगर जिला सहकारिता पदाधिकारी श्री नयन प्रकाश एवं प्रखंड सहकारिता पदाधिकारी श्री निप्पूलाल वर्मा द्वारा अच्छे कार्यों के लिए हमेशा प्रोत्साहन मिला है।

इस संदर्भ में जिला सहकारिता पदाधिकारी श्री नयन प्रकाश ने कहा कि बढ़ौना पैक्स द्वारा चलाया गया ये कार्यक्रम तारीफ योग्य है।
नवंबर 2014 में समपन्न चुनाव के बाद से बढ़ौना पैक्स द्वारा लगातार बेहतर कार्य किया जा रहा है जिसमें किसानों के बीच प्रखंड स्तरीय सेमिनार, प्रशिक्षण, कृषि में नई तकनीक नई फसलों की खेती के साथ सदस्यों के विकास के लिए जिला स्तर पर शतरंज प्रतियोगिता जैसे खेलों का आयोजन भी है।

गांव में घूमते हुए जब हम किसी सदस्य से मिलकर पैक्स के संदर्भ में पूछते तो पता चलता कि 2014 से पहले बढ़ौना में पैक्स के नाम पर न खाद मिलता था ना कोई नाम जानता था। लेकिन अब तो हर कोई इससे फायदा ले रहा है।
बढ़ौना पैक्स अध्यक्ष कुणाल कुमार ने कहा कि अभी तक पूर्ववर्ती अध्यक्ष के द्वारा प्रभार नहीं देने की वजह से कार्य करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ता है बावजूद इसके मेरा लक्ष्य बढ़ौना पैक्स को आदर्श पैक्स बनाना है।

कुणाल कुमार का परिचय
अब हम आपको कुणाल कुमार के निजी जीवन के बारे में कुछ जानकारी देता हूं। कुणाल कुमार दिल्ली में पत्रकारिता का कोर्स करने के बाद तब के स्टार न्यूज और वर्तमान में एबीपी न्यूज में कार्यरत थे। लेकिन दिल्ली की तड़क-भड़क वाली जिंदगी और पत्रकारिता के सुनहरे करियर को छोड़ कर कुणाल बिहार वापस अपनी जन्मभूमि में लौट आए। जरा सोचकर देखिए कि वो नौजवान जिसने दिल्ली यूनिवर्सिटी में पढ़ाई किया हो, एबीपी न्यूज जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान में काम कर रहा हो वो अगर बिहार के समस्तीपुर में अपने गांव में वापस लौटकर आने का फैसला करे तो लोग उसे सनकी ही कहेंगे ना। कुणाल को सनक सवार है अपने क्षेत्र की दशा और दिशा बदलने की। कुणाल उन युवाओं के लिए भी मिसाल हैं जो कहते हैं कि बिहार में कोई स्कोप नहीं है। आज कुणाल उन्नत तकनीक की मदद से खेती करते हैं और अपने क्षेत्र के बाकी किसानों को भी खेती के नए-नए टिप्स बताते रहते हैं। समाजसेवा कुणाल के जीवन का मकसद है। mewsofbihar.com की तरफ से भी कुणाल को शुभकामनाएं।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

2 विचार साझा हुआ “समस्तीपुर : एक पैक्स अध्यक्ष का कमाल का विजन, इस युवक से कुछ तो सीखिए सांसद-विधायक जी !” पर

  1. Vinod Kumar Mishra/Pandit Tol Tabhka- October 24, 2016

    आपकी कर्तव्य-शीलता काबिले तारीफ़ तो है/क्या इस संस्था का विकास पूरे समस्तीपुर जिला में प्रसारित/विस्तारित किये जाने का प्रयास नहीं किया जा सकता है? हर ग्राम-पंचायत स्तर पर कार्यवाही प्रारम्भ किया जाय -(तथास्तु)-

  2. Vinod Kumar Mishra/Pandit Tol Tabhka- October 24, 2016

    शिकारी आएगा, जाल बिछाएगा और दाना भी डालेगा-लेकिन लोभ से फसना नहीं” -(मुनि द्वारा गये मूल-मन्त्र को रटते-रटते भी, शिकारी के जाल में फसने की आदत जो हो गयी है -(हमारी और आपकी)- मुझे तो कुछ ऐसा ही दिख रहा है/भाई- ‘कायल’ और ‘दृढ़ विश्वास’ के बीच – क्या फर्क है/भाई- देश के प्रति अपने जबाबदारी को समझना और उसे स्वच्छ-दिल से निर्वहन करना ही, अपने देश के कोने-कोने में स्वच्छता लाने का सफल प्रयास होगा/भाई- अन्यथा, आपके द्वारा किये गये सभी कार्य विवादास्पद होने के कगार पर खड़ा दिख रहा है।

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME