05, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

स्कूल बना जुआरीयों का अड्डा, अधिकारी को स्कूल जांच कि नहीं है फुर्सत !

School-bana-juari-ka-adda

अभिषेक कुमार झा की रिपोर्ट
मधुबनी, 29 अगस्त : शिक्षा जगत में अपनी पहचान बना चुके राजद विधायक फैयाज अहमद के क्षेत्र बिस्फी विधानसभा में एक सरकारी स्कूल अपनी किस्मत पर रो रहा है। एक ओर जहाँ फैयाज अहमद के हर शाल निजी स्कूल और कॉलेज में लगातार इजाफा कर रहे है वहीं क्षेत्र के सरकारी विद्यालय का घटना शर्म कि बात है। मामला बिस्फी प्रखंड के चहुटा पंचायत में अवस्थित मध्य विद्यालय का है। तकरीबन 600 बच्चे के लिये शिक्षा का केन्द्र आज विनाश कि कगार पर है। महज पंद्रह साल पहले तक बने स्कूल का भवन गिर चुका है और पुराने भवन तो पहले से ही खंडहर हो चुके है। विद्यालय का आलम यह है कि बच्चे और शिक्षक तो आते नही है अलबत्ता जुआरीयो का अड्डा बन गया है। स्कूल के मुख्य द्वार पर भैंस बंधा रहता है और अंदर जुआरी जुआ खेलते नजर आ जायेंगे। यह जुआरी इतने हिम्मतवाले है कि कैमरा के सामने भी हटने कि जहमत नहीं उठाते। अब उठे भी क्यों जब स्कूल के सभी बिल्डिंग गिर ही चुके है बच्चे स्कूल आते नहीं शिक्षक को मानो छुट्टी मिल चुका है। अधिकारी को स्कूल जाँच कि फुर्सत नहीं है।
जब स्थानीय लोगों से पूछा कि स्कूल क्यों बंद है तो उनका जवाव भी कूछ यूं था मानो वह ग्रामीण नहीं है। उन्होने बताया कि यहाँ के कूछ स्थानीय लोग भवन बनने देने के एवज में पैसे माँगते है। अब शिक्षक नेता अधिकारी सभी को पैसे चाहिये तो भवन कैसे बनेगा एक साल से स्कूल बंद है। दूसरे स्कूल में बच्चे को शिफ्ट किया गया है लेकिन वहाँ जगह उतनी हैनहीं जिससे बच्चे स्कूलनहीं जाते है। वहीं एक दूसरे स्थानीय से पूछा तो उसने बताया कि विधायक जी तो वोट माँगने भी नहीं आते है। वे कभी नजर नहीं आते है। जब इस सम्बन्ध में जिला पदाधिकारी गिरिवर दयाल सिंह से बात किया तो उन्होने बताया कि शिक्षा के अधिकार के तहत स्कूल बंदनहीं होना चाहिये मैं जल्द हि टिम गठित कर स्कूल जल्द से जल्द चालु करवाने कि व्यवस्था करता हूँ।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

2 विचार साझा हुआ “स्कूल बना जुआरीयों का अड्डा, अधिकारी को स्कूल जांच कि नहीं है फुर्सत !” पर

  1. लक्ष्मण चौपाल August 30, 2016

    मैं लक्ष्मण चौपाल अपना सहयोग आपको देने और आपका सहयोग लोगों में बांटने और ऐसे ही किसी अन्य प्रकार से लोगों में जागृति पैदा कर समाज को एक सूत्र में बांधकर अज्ञानता से मुक्त शिक्षित समाज के निर्माण में आपके द्वारा प्रचार प्रसार में सहायक बनना चाहता हूँ।

  2. लक्ष्मण चौपाल August 30, 2016

    वहां के ग्रामीण अनपढ़ और नासमझ हो सकते हैं पर शिक्षक अगर विभाग को जानकारी दी होती तो उस विद्यालय का ये हाल कभी नहीं होता।उस विद्यालय के शिक्षकों को सस्पेंड किया जा सकता है। तथा वहां के ग्रामीण एवं प्रतिनिधि मुखिया एवं सरपँच को वहां पहल करने की आवश्यकता है।

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME