27 मई, 2017
To Advertise on this Website call Us on 9155705448, 8130906081
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

बिचौलियों के लिए काम कर रही है राज्य सरकार: मंगल पाण्डेय

jkhjl

सरफराज सिद्दीकी की रिपोर्ट

नीतीश सरकार किसानों को बिचौलियों के हाथों बेचने पर आमादा

मधुबनी, 3 नवंबर। नीतीश सरकार किसानों को बिचौलियों के हाथों बेचने पर आमादा है। सीएम ने बिहार जैसे कृषि प्रधान राज्य में किसानों का सुध लेना छोड़ दिया है। उक्त बातें भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मंगल पांडेय ने नगर पंचायत के जानकी विवाह भवन में प्रेस को संबोधित करते हुए कहा।उन्होंने आगे कहा कि सात निश्चय का जो ढकोसला सरकार ने रचा है, उसमें भी किसानो को शामिल नही किया गया है। बीते साल जिन किसानों ने धान बेचे उन्हे अभी तक धान का मूल्य प्राप्त नहीं हुआ है। डीजन अनुदान भी नहीं दिया गया है। धान क्रय का 500 करोड़ रुपया आज भी किसानों को देना बांकी है। अब 15 नवम्बर से धान क्रय करने की घोषणा भी की जाएगी। दिसम्बर के बाद जनवारी माह में सरकार धान क्रय में तेजी दिखायेगी तब तक किसान बिचौलियों के चंगुल में फंस चुके होंगे।
उन्होंने कहा कि हमारी सीएम से मांग है कि पूर्व के धान क्रय का बकाया जल्द से जल्द किसानों को दें। डीजल अनुदान का भुगतान करें एवं 15 नवम्बर से धान क्रय की शुरुआत करें। ताकि किसान बिहार एवं देश के लोगों का पेट भर सकें। सरकार की मन की बात साफ हो गई है कि पिछले वर्ष की भांति इस वर्ष भी बिचौलियों के माध्यम से धान की खरीदारी करवाएगी और किसानों को औने पौने दामों में धान बेचने को विवश किया जाएगा। साथ ही उन्होंने बताया कि सरकार के इस रवैये को भाजपा नहीं देख सकती। इस बार अगर ऐसा हुआ तो भाजपा पार्टी के द्वारा जमकर विरोध किया जाएगा। इसी बीच उन्होंने बिहार के कानून व्यवस्था पर भी नीतीश सरकार को जमकर कोसा। उन्होंने सरकारी तंत्र पर बिना रुपया लिए काम नहीं करने का आरोप लगाते हुए राज्य सरकार को भ्रष्ट करार दिया। तंत्र बिना रुपया लिये कोई भी काम नही करना चाहते है। मौके पर सांसद विरेन्द्र कुमार चैधरी, मृतुन्जय झा, अनुरंजन झा ,राकेश मिश्रा विष्णू टिबरेवाल, देवानंद झा, गुंणेश्वर राय, सियाराम साह, सहित कई लोग मौजूद थे।

ये भी पढे़ं:-   नही रहे वरिष्ठ भाजपाई शिवानंद बाबू, इलाके में शोक की लहर

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME