ऐसा शादी कभी नहीं देखा होगा 17 साल की दुल्हन औऱ 34 साल का दुल्हा, पुलिस ने क्या ऐसा काम जानिए

nawada
Advertisement

पटनाः बिहार में बाल विवाह रूकने की नाम नहीं ले रही है | ताजा मामला बिहार के जिला नवादा की सोनवे तकिया महादेव मठ की हैं | यहां के शिव मंदिर में शादी हो रही थी और मंगलगीत गाए जा रहे थे । लेकिन सिंदुर दान से पहेला हुआ कुछ ऐशा कि लड़की का जिंदगी बच गया |

दरअसल सरकार ने बाल विवाह रोकने के लिए कई कानून बना रखी है | जिसके तहत किसी भी नबालिग लड़की का शादी नहीं हो सकता है | ऐसे में जब दूल्हा 34 साल का हो औऱ दूल्हन सिर्फ 17 साल की तो वाक्य दुख की बात है | सूबे में गुरुवार को परणाडावर गांव निवासी महादेव मिस्त्री की पुत्री किरण कुमारी की शादी बिहार के लड़के के साथ नहीं बल्कि हरियाणा राज्य के महेंद्र गढ़ निवासी स्व. बाबूलाल झगड़ के पुत्र सतीश कुमार से हो रहा था | लेकिन जब पुलिस को सूचना मिली कि लड़की लबालिग है औऱ लड़का 34 साल का है तो पुलिस तुरंत शादी अस्थल पर पहुँची | पुलिस पहुँचते ही दूल्हा और दुल्हन को हिरासत में ले लिया । हिरासत में लेने के बाद पुलिस जब जांच में जुटी तो पत्ता चला कि लड़की व्यस्क नहीं हुई है । आधार कार्ड व अन्य दस्तावेजों से यह बात प्रमाणित हुआ । कि शादी की तिथि तक लड़की की उम्र 17 वर्ष 10 महीना 21 दिन हो रहा था। दूसरी ओर लड़के की उम्र लड़की की अपेक्षा भी दोगुनी पायी गई है। हलांकि दोनों पक्षों के अभिभावक की रजामंदी से शादी हुई थी। तमाम पक्षों को सुनने और साक्ष्यों के अवलोकन के बाद पीठ ने लड़की को मां-पिता को सौंपने का आदेश पारित किया।

ये भी पढ़े  सेंट्रिंग खोलने के दौरान बड़ा हादसा, दम घुटने से चार मजदूरों की मौत

इस शादी से संबधीत जो शुरूआती खबर थानाध्यक्ष राजकुमार को मिली उसके बाड़े में उन्होंने ने बताया कि शुरूआती जांच में यह तथ्य सामने आया है कि लड़की की मौसी इस शादी की अगुवा बनी थी। उनकी तीन बेटियों की शादी हरियाणा में हुई है। सिरदला इलाके के कई लड़कियों की शादी हरियाणा में हुई है। इस के साथ इस लड़की का शादी भी हो रही थी लेकिन कहीं शक ये भी हैं कि कहीं मानव तस्करी के लिहाज से तो शादी नहीं हो रही थी |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here