08, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

जानिए क्यों गुरु को दिया गया है भगवान से ऊंचा दर्जा ?

teachers-day-01

शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ…जानिए इस दिवस की कुछ मुख्य बातें !

गुरू, एक ऐसा शब्द जिसके उच्चारण मात्र से मन की शुद्धि हो जाती है, जिस शब्द को धार्मिक ग्रंथों में भी भगवान से ऊंचा दर्जा दिया गया है। कहते हैं कि बिना ज्ञान का इंसान पशु के समान होता है और ज्ञान बिना गुरु के प्राप्त हो ही नहीं सकता। गुरु को तो स्वयं ईश्वर का रूप बताया गया है। सच में गुरु से बढ़ कर कोई नहीं। इसीलिए तो कहते हैं –

गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः। गुरुरेव परंब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नमः॥

बताते चलें कि 5 सितंबर , देश के प्रथम उप-राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंती को शिक्षक दिवस के तौर पर मनाया जाता है। हालाँकि गुरु के लिए तो सदैव लोगों के मन में सम्मान की भावना रहती है लेकिन, वर्ष में एक बार यह मौका आता है, जब छात्र-छात्राएं अपने शिक्षकों को सम्मान के रूप में कुछ गुरुदक्षिना देकर सम्मानित करते हैं। यह दिन हमें उस महान व्यतित्व का स्मरण कराता है जो एक महान शिक्षक के साथ-साथ महान राजनीतिज्ञ एवं उत्तम दार्शनिक भी थे। उस महान व्यक्ति को पूरी दुनिया डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के नाम से जानती है।

बताते चलें कि भारत रत्न से सम्मानित भूतपूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिवस (5 सितंबर) भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। राजनीति में आने से पूर्व उन्होंने अपने जीवन के 40 साल अध्यापन को दिये थे। सर्वपल्ली राधाकृष्णन का मानना था कि बिना शिक्षा के इंसान कभी भी मंजिल तक नहीं पहुंच सकता है। इसलिए इंसान के जीवन में एक शिक्षक होना बहुत जरूरी है।

डॉ. राधाकृष्णन की ऐसी मान्यता थी कि शिक्षा के बिना व्यक्तित्व तथा चरित्र का निर्माण संभव नहीं हो सकता। वैश्विक शान्ति, समृद्धि एवं सौहार्द में शिक्षा का महत्व अतिविशेष है। पुस्तकें वो साधन हैं जिनके माध्यम से हम विभिन्न संस्कृतियों के बीच पुल का निर्माण कर सकते हैं। उनके विचारों को ध्यान में रखते हुए शिक्षक दिवस के पुनीत अवसर पर हम सब प्रण करें कि शिक्षा की ज्योति को ईमानदारी से अपने जीवन में आत्मसात करेंगे क्योंकि शिक्षा का कोई भेद नही होता, जो इसके महत्व को समझ जाता है वो अपने भविष्य को सुनहरा बना लेता है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME