27 मार्च, 2017
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

Big Breaking: दरभंगा में सरकारी अस्पताल के बेड में लग रहा है जंग और मरीज सो रहे हैं फर्श पर

hospital

दरभंगा, 20 नवम्बर। दरभंगा स्थित डीएमसीएच के जर्जर स्थिति से स्थानीय प्रशाशन के साथ-साथ राज्य सरकार भी वाकिफ है लेकिन उत्तर बिहार के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल की स्थिति सुधारने की दिशा में कोई प्रयास नहीं किया गया है। जब प्रमुख सरकारी अस्पताल भगवान् भरोसे चल रहा है तो फिर सामुदायिक स्वस्थ्य केन्द्रों की स्थिति इस से अलग कैसे हो सकती हैं? दरभंगा के केवटी प्रखंड अंतर्गत सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को दो वर्ष पूर्व 6 बीएड के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से उत्क्रमित कर 30 बीएड वाला नया आलिशान सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बनाया गया। तत्कालीन पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने इसका उद्घाटन विडियो कांफ्रेसिंग के जरिये किया था।
आपको बता दें की वर्तमान स्थिति यह कि अभी भी अस्पताल में 6 बीएड ही लगे हैं बांकी के 24 बीएड अस्पताल कर्मियों के लापरवाही के कारण स्टोर रूम में सड़ रहे हैं। इस लापरवाही पर जब अस्पतालकर्मियों से पूछा गया तो उन्होंने कैमरे पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया। जब मरीज स्वास्थ्यकर्मियों से बीएड की मांग करते हैं तो उन्हें डांट-फटकार कर चुप करा दिया जाता है। मरीज इस बात से भी डर जातें हैं कि ज्यादा जोर-जबरदस्ती करने पर कहीं स्वास्थ्यकर्मी इलाज में ही कोई कोताही बरतना न शुरू कर दें। अस्पताल के प्रभारी एनके लाल ने माना कि अभी कम ही बेड लगे हैं। उन्होनें बताया कि 25 बेड सितम्बर माह में ही मिले हैं, एक दो दिन में सभी बेड लगा दिए जाएंगे। वहीं स्थानीय विधायक फराज फातमी ने बताया कि बहुत ही दुख की बात है अथक प्रयास के बाद अस्पताल के लिए 25 बेड मंगवाया था और अस्पताल प्रभारी को इसको मरीजों के सहूलियत के लिए अस्पताल में लगवाने को कहा था मगर स्वास्थ्य कर्मी के लापरवाही के कारण सभी बेड में जंग लग रहे हैं और बेकार पड़े हुए हैं।

ये भी पढे़ं:-   यात्रीगण कृपया ध्यान दें; जानिये छठ स्पेशल ट्रेनों की समय सारणी

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME