05, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

लव-कुश की जोड़ी को देखकर विदेश के डॉक्टर भी हैं हैरान !

judwa-1

दरभंगा, 07 अगस्त। कहते हैं कि आज का दौर विज्ञान का दौर है। आज के दौर में विज्ञान के पास हर समस्या का समाधान है। यहां तक की फिल्मों के अचंभित करने वाले दृश्य भी विज्ञान की ही देन का कमाल है। उसी की हाई टेक्नाॅलाजी का इस्तेमाल कर हम फिल्मों में ‘वाओ फैक्टर’ का अविष्कार करते है। इसलिए कहा जाता है कि फिल्मों में दिखाए जाने वाले ज्यादातर बातें काल्पनिक होती है। जिसका वास्तविक जीवन से कोई लेना-देना नहीं होता है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसी वास्तविक कहानी से रू-ब-रू करवाने जा रहे है जिसके बारे में जानकर आपको आश्चर्य के साथ ही कुछ काल्पनिक फिल्मों की याद आ जाएगी। जैसे कि सीता-गीता, हैलो ब्रदर आदि। आज की कहानी दो ऐसे जुड़वा बच्चों की है जिसपर ‘दो जिस्म एक जान’ वाला कहावत एकदम सटीक बैठता है। आपको बता दें कि इन दोनों बच्चों की उम्र 7 वर्ष है। अगर एक को तकलीफ होती है तो दूसरे को भी तकलीफ होती है। अगर एक का हाथ टूटता है तो दूसरे का भी हाथ टूट जाता है। सुनकर आश्चर्य हो रहा होगा आपको.. लेकिन यह सच है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें  

 
 

आपको बता दें कि यह कहानी दरभंगा के बहेड़ा थाना के पास रामपुर गांव के रहने वाले संतोष झा व रुनम झा के जुड़वा बेटे लव और कुश की है। जहां लव और कुश की मां रुनम बताती है कि लव का 5 बार हाथ टूटा तो कुश का भी 5 बार हाथ टूटा, फिर कुश का 3 बार हाथ टूटा तो लव का भी तीन बार हाथ टूट गया। दोनों के साथ बचपन से ही ऐसी घटनाएं घट रही है। एक के बीमार पड़ते ही दूसरा भी बीमार पड़ जाता है। जिससे परिवार वालों को अक्सर परेशानियों का सामना करना पड़ता है। क्योंकि लव और कुश के पिता आर्थिक रूप से मजबूत नहीं हैं। वे बेंगलूर में रसोइए का काम करते हैं। लेकिन फिर भी अपने दोनों बेटों की देख-रेख में वह कोई कसर नहीं छोड़ते हैं। इसी क्रम में वापस लव और कुश का हाथ टूट गया। जिसके बाद दोनों को फिलहाल डीएमसीएच के प्रो. डाॅ. एसएन सर्राफ के क्लीनिक में भर्ती कराया गया।

वहीं डा. सर्राफ के अनुसार पहले कुश का हाथ टूटा था जिसके इलाज के दौरान उसके हाथ में नेल दिया गया जिसके बाद उसे काफी सहज महसूस हो रहा था। इसी दौरान करीब आधे घंटे के अंदर ही लव का भी हाथ अपने आप टूट गया जिसकी वजह से उसके हाथ में प्लेट लगाया गया। इस वाक्ये से डाॅ सर्राफ भी काफी अचंभित हुए क्योंकि उन्होंने ऐसा वाक्या पहले कभी ना देखा था ना ही सुना था। फिर भी इसकी पुष्टि के लिए डाॅ सर्राफ ने इंटरनेट पर सर्च किया, विदेशों के कई चिकित्सकों से भी संपर्क किया। लेकिन किसी के पास इसका कोई जवाब नहीं था। वहीं डाॅ सर्राफ के मुताबिक जहां एक ओर आज का विज्ञान जगत ऐसे अवधारणाओं को नहीं मानता हैं वहीं दूसरी तरफ विज्ञान जगत के पास इस चमत्कार का भी कोई जवाब नहीं है। उनके अनुसार ये रिसर्च का विषय है और इसपर बहुत जल्द ही रिर्सच शुरू किया जाएगा। दूसरी तरफ बताया जा रहा है कि दुनिया को अचंभित कर देने वाले लव और कुश मानसिक तौर पर पूरी तरह स्वस्थ और सामान्य बच्चों की तरह है। और अब इलाज के बाद दोनों एकदम स्वस्थ है।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME