04, Dec, 2016
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

व्हाट्स एप्प ग्रुप में आपत्तिजनक पोस्टों पर लगेगी लगाम, विभाग ने जारी किया अपना व्हाट्स एप्प नंबर !

facebook-whatsapp

मधेपुरा, 21 अक्टूबर। मधेपुरा जिलाधिकारी ने व्हाट्सएप और फेसबुक के बारे में दिए सारे आदेशों को वापस लेते हुए सर्वसम्मति से सामाजिक हित में एक नया एडवाइजरी जारी किया है। जिलाधिकारी ने आज साइबर एक्सपर्ट, सोशल मीडिया के एक्टिव मेम्बर, मीडियाकर्मियों, बुद्धिजीवियों की एक लम्बी बैठक के बाद सर्वसम्मति से निम्न निर्णय लिया जो निश्चित ही स्वागत योग्य है। व्हाट्सएप और फेसबुक के ग्रुप के एडमिन की जिम्मेदारी होगी कि अगर उनके ग्रुप में उत्तेजक धार्मिक एवं जातीय पोस्ट, कमेन्ट, फोटो, वीडियो आदि अपलोड, शेयर या फारवर्ड किये जाते हैं, जिससे विधि-व्यवस्था बाधित होती है या होने की सम्भावना हो, तो ऐसा करने वाले का स्क्रीन शॉट लेकर विभाग द्वारा निर्गत मोबाइल नं. 9955948775 पर या फेसबुक पेज मधेपुरा मॉनिटर पर अविलम्ब सूचित करेंगे।

ऐसे सूचनादाता एडमिन या सदस्य का नाम व पता प्रशासन के द्वारा गुप्त रखा जाएगा। अगर एडमिन द्वारा समय पर यह सूचना उपरोक्त नंबर पर नहीं दी जाती है, तो ऐसे एडमिन के विरूद्ध नियमानुसार कानूनी कार्रवाई की जायेगी। प्रशासन एवं पुलिस की तकनीकी सेल और सायबर क्राइम या स्पेशल टीम इंटरनेट द्वारा जिले में क्रियाशील फेसबुक, व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया की मॉनिटरिंग की जा रही है।

जिला प्रशासन ने यह भी साफ कर दिया है कि जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक, मधेपुरा द्वारा यह निर्णय लिया गया कि इस सम्बन्ध में निर्गत किये पूर्व के संयुक्त आदेश ज्ञापांक 2520/को दिनांक 18.10.2016 एवं आदेश संख्यां ज्ञापांक 2532/को दिनांक 19.10.2016 को विलोपित किया गया। बैठक में सोशल मीडिया की पूर्णत आजादी के समर्थन में संदीप शांडिल्य, अमित कुमार मोनी, किशोर कुमार, अरूण कुमार, मनीष सर्राफ आदि तथा मीडियाकर्मी मौजूद थे। जाहिर सी बात है, मधेपुरा से सोशल मीडिया के हजारों यूजर्स काफी एक्टिव हैं और सोशल मीडिया के कई मामलों में तो मधेपुरा ने सूबे और देश को भी दिशानिर्देश देने का काम किया है। ऐसे में जहाँ कल तक जिला प्रशासन के पुराने आदेशों को लेकर सोशल मीडिया पर जबरदस्त विरोध प्रदर्शन हो रहे थे, वहीं इस खबर के बाद जिलाधिकारी मो. सोहैल और पुलिस अधीक्षक विकास कुमार के तारीफों की जा रही है। वैसे भी सोशल मीडिया पर वर्तमान जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक के कार्यशैली की प्रशंसा अबतक अधिकांश यूजर्स करते रहे हैं। जो भी हो, मधेपुरा की सुरक्षा की जिम्मेवारी तो हम सबकी है ही और प्रशासन का सहयोग कर हम अपने दायित्व का निर्वाह तो कर ही सकते हैं।

आपको बताते चले कि वाटसप एंव फैसबूक संचालित ग्रूप में अब जिला प्रशासन को भी जोड़ना होगा ऐसा नहीं करने वाले के खिलाफ कारवाई की जाएगी। दशहारा एंव मुहरर्म के दौरान बिहारीगंज में हुए समप्रदायिक तनाव के मद्देनजर निर्णय लिया गया। इस बात को डीएम मो. सौहेल ने आदेश जारी किया कि सोशल साईट पर अफवाह फलाने के वजह के कारण जांच के लिए मानटरिंग सेल का भी गठन किया है। जिला प्रशासन के आदेश पर बिहारीगंज में छापेमारी में कुछ मोबाईल जब्त कि गए थे। यह तनाव फैलाने के लिए वाटसप एंव फैसबूक का इस्तेमाल किया गया था। भविष्य मंे ऐसी घटना न हो इसके लिए मानटरिंग सेल बनाया गया।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

newsofbihar

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME