27 मार्च, 2017
ब्रेकिंग न्यूज़

NEWS OF BIHAR

वाह जी वाह! इस अस्पताल में तो बंध्याकरण कराने के बाद भी गर्भवती हो जाती हैं महिलाएं…

muz

कुलदीप भारद्वाज की रिपोर्ट

मुजफ्फरपुर, 3 जनवरी।

सरकारी अस्पताल में बंध्याकरण कराने के महज 10 दिन बाद ही फिर से गर्भवती हो गई सरिता। मुजफ्फरपुर में सरकारी अस्पतालों में किये जा रहे परिवार नियोजन की पोल खुल गई है। मरीजों की जान की कीमत पर सरकारी तंत्र परिवार नियोजन की औपचारिकता कर बड़ी लापरवाही करने में लगा है। ताजा मामला मुजफ्फरपुर के मुसहरी पीएचसी का है जहां परिवार नियोजन के बाद महिला गर्भवती पाई गई है। साथ ही ऑपरेशन के बाद घाव सूखे बिना ही पीड़िता को निजी इलाज के भरोसे छोड़ दिया गया है।

दो बच्चों की मां सरिता ने आगे बच्चे नहीं होने की चाहत में पिछले तीन दिसंबर को मुजफ्फरपुर के मुसहरी पीएचसी में परिवार नियोजन कराया। इसके बाद पेट में दर्द होने की शिकायत और ऑपरेशन की जगह से पस निकलने को लेकर जब वो दोबारा अस्पताल पहुंची तो इलाज से इंकार कर दिया गया। 13 दिसंबर को जब निजी अस्पताल में पीड़िता ने इलाज कराया तो चिकित्सक ने गर्भवती बता दिया।

उसने जबरन मेरे साथ दुष्कर्म करना शुरू कर दिया, जब मैं गर्भवती हो गई तो उन लोगों ने मुझे…

एक तरफ बच्चे को नहीं चाह रही सरिता गर्भवती होने से परेशान है तो दूसरी ओर परिवार नियोजन के बाद उसका ऑपरेशन की जगह वाला घाव सूख नहीं रहा। परेशान दम्पति ने मामले की शिकायत डीएम से लेकर सिविल सर्जन तक से की है। पीड़िता ने पीएचसी प्रभारी शंकर साह पर डांट-फटकार कर भगाने और निजी अस्पताल में इलाज कराने के लिए दबाव बनाने का आरोप लगाया है।

ये भी पढे़ं:-   मिसा भारती का अमित शाह पर बड़ा पलटवार कहा, 'बिल्ली से दूध की रखवाली करा रही है भाजपा'
muz

निजी चिकित्सक से इलाज में बीपीएल परिवार से आने वाले इस गरीब ने अब तक 16 हजार रूपये खर्च कर दिया है। मामले की शिकायत सुनने के बाद सिविल सर्जन ने जांच के आदेश दे कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने का भरोसा दिलाया है साथ ही सरकारी खर्च पर बेहतर इलाज कराने की बात की है।

बाढ़ में फंसी गर्भवती महिला, एनडीआरएफ की टीम ने बोट में कराया डिलीवरी !

परिवार नियोजन के मामले में लक्ष्य से काफी दूर महज 38 फीसदी का आंकड़ा ही जिले में प्राप्त किया जा सका है। शेष बचे तीन माह में लक्ष्य को पाने की औपचारिकता स्वास्थ्य विभाग इतनी जल्दबाजी कर रहा है जिससे कई गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं।

newsofbihar.com की ख़बरें अपने न्यूज़फीड में पढ़ने के लिए पेज like करें

loading...

अपने विचार साझा करें

आवश्यक लिखें चिह्नित:*

Powered By Indic IME