सिगरेट नहीं पीने वालों की ऐश, 6 दिन ज्यादा छुट्टी देने का इस कंपनी ने किया ऐलान

सिगरेट नहीं पीने वालों को 6 दिन की छुट्टी
सिगरेट नहीं पीने वालों को 6 दिन की छुट्टी
Advertisement

इस खबर की हेडलाइंस को पढ़ कर आप पक्का हैरान हो उठे होंगे लेकिन ये सच्चाई है। भले इस नियम को अपने देश की किसी कंपनी ने लागू नहीं किया है लेकिन क्या पता कल अपने देश की कंपनियां भी इसको लागू कर दे। स्मोकिंग से होने वाले खतरों को लेकर आम लोगों में जागरुकता फैलाने के लिए प्रत्येक साल देश विदेश में करोड़ों रुपये विज्ञापन में झोंक दिए जाते हैं लेकिन उनका परिणाम कितना सार्थक हो पाता है इसको लेकर फिलहाल कोई आंकड़ा हमारे पास नहीं है। हां इतनी उम्मीद तो जरूर की जा सकती है कि इस तरह के प्रयास का परिणाम कहीं ना कहीं सकारात्मक जरूर सामने आ सकता है।

अब हम आपको ये भी बता दें कि इस तरह का नियम कहां और किस देश की कंपनी ने लागू किया है। जापान के बारे में आपने जरूर सुना होगा। तकनीकी रूप से सबल जापान की एक कंपनी ने इस तरह का अनोखा फैसला लागू किया है। कंपनी का नाम पियाला इंक है। पियाला इंक ने सिगरेट नहीं पीने वाले अपने कर्मचारियों को साल में 6 दिन एक्सट्रा छुट्टी देने का ऐलान किया है। इस तरह का सुझाव धूम्रपान नहीं करने वाले कंपनी के एक स्टाफ ने दिया था।

सिगरेट नहीं पीने वालों को 6 दिन की छुट्टी
सिगरेट नहीं पीने वालों को 6 दिन की छुट्टी

अगर आपको लगता है कि आप अपने ऑफिस में टी ब्रेक या स्मोकिंग ब्रेक के लिए बार-बार उठते हैं और इस बात को कोई नोटिस नहीं कर रहा है तो आप शायद गलत हैं। क्योंकि पियाला इंक मैनेजमेंट का मानना है कि ऑफिस के दौरान करीब 3 सिगरेट पीने के लिए कर्मचारी रोजाना 40 मिनट ऑफिस से बाहर रहते थे और इससे कामकाज भी प्रभावित होता है। वहीं दूसरी तरफ कंपनी का ये भी मानना है कि जो लोग स्मोकिंग नहीं करते हैं वे दफ्तर में ही बैठकर काम करते रहते हैं और वे सिगरेट पीने वालों के मुकाबले ज्यादा काम करते हैं इसलिए उनको प्रोत्साहित करने के लिए 6 दिन अधिक छुट्टी देने का ऐलान किया गया है। हालांकि ये नियम 1 सितंबर से ही लागू हो चुका है और कंपनी की माने तो सिगरेट पीने वालों में से अधिकांश लोगों ने सिगरेट की लत को अलविदा भी कह दिया है।

वैसे आपको क्या लगता है कि क्या इस तरह के नियम अपने देश में भी लागू होने चाहिए? आप अपनी प्रतिक्रिया हमें कमेंट के माध्यम से भेज सकते हैं।