धर्म परिवर्तन कराने वाले गैंग का हुआ खुलासा, दो महिला समेत प्रचारक गिरफ्तार

Advertisement

धर्म व्‍यक्तिगत मामला है। लेकिन, जब किसी को भ्रमित कर या जबरन धर्म परिवर्तन कराया जाता है तो यह कानूनन अपराध के श्रेणी में आता है। साथ ही इस तरह से कराए गए धर्म परिवर्तन पर लोगो में काफी आक्रोश देखा जाता है।

बिहार के सहरसा में धर्म परिवर्तन कराने वाले बड़े रैकेट का खुलासा हुआ है। मिली जानकारी के अनुसार खगडिय़ा जिला के चौथम निवासी कृष्णानंद यादव और पटना वासी गोरखनाथ द्वारा सदर थाना के शारदा नगर इलाकेके एक मकान में कुछ लोगों को जुटाया गया था। वहां उन्हें धर्म विशेष के संदर्भ में दिग्भ्रमित करने की शिकायत मिली। धर्म परिवर्तन की आशंका के मद्देनजर मकान के आसपास विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल सहित कई संगठन के लोग और सामाजिक कार्यकर्ता सदर थाना के शारदा नगर इलाके में एकत्रित हो गए।

इसकी भनक पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों को लग गयी। आनन-फानन में सदर एसडीएम शम्भूनाथ झा, सदर एसएचओ आरके सिंह पुलिस जवान के साथ मौके पर पहुंचे। अधिकारियों ने त्वरित कारवाई करते हुए धर्म परिवर्तन कराने वाले मुख्य आरोपी कृष्णदेव यादव और गोरखनाथ को दबोच लिया। पुलिस ने इस दौरान तीन अन्य आरोपियों को भी दबोचा जिसमें दो महिलाएं भी हैं। इस दौरान सौ से अधिक लोग फरार होने में कामयाब हो गए। मौके से पुलिस ने दो बड़े साउंड बॉक्स, कई मशीन, सीडी, किताबें और कई तरह के आपत्तिजनक सामान बरामद किए गए हैं। दो मंजिले मकान को तत्काल सील कर दिया गया है।

पुलिस के मुताबिक कई ऐसे लोगों को हिरासत में लिया गया है जो कथित तौर पर मिशनरीज से जुड़ कर अपना धर्म परिवर्तित कर चुके थे। एसडीएम शम्भूनाथ झा ने कहा कि मामला धर्म परिवर्तन से जुड़ा है और फिलहाल इस मामले में सभी बिन्दुओं पर जांच की जा रही है। इस मामले में आरोपी कृष्ननंदन यादव ने कहा कि मैं सिर्फ लोगों को ईसा मसीह के प्रवचन सुनाता हूं न कि मैं किसी का जबरन धर्म परिवर्तन करा रहा था।