बिहार के बैंकों में नगदी की भारी कमी ,पैसे के कारण टूटने के कगार पर है बेटी की शादी

andhrathadi
Advertisement

बाबू पच्चास हजार रुपये निकलना है, बेटी की शादी है। यह शादी का कार्ड देखिये। मुखिया जी से पूछ लीजिए । पैसे के खातिर शादी रुक जाएगी। खुद के पैसे निकालने के लिए कतार में खड़ा एक बृद्ध गुहार लगाते रो पड़ा। हम कुछ नही कर सकते दो हजार लेना है, तो निकासी फॉर्म भरकर दे दो। नही तो मैनेजर साहब को कहिये। बैंक कर्मी ने यह कह कर अपना पल्ला झाड़ लिया। फिर वह अधेड़ लाचार बाप प्रबंधक से गुहार लगाता रहा। उसने उन्हें पांच बजे तक शाखा में रुकने को कहा। क्या पता कुछ इंतज़ाम हो जाये।
बिहार में कैश के किल्लत के कारण महिलाये,बूढ़े और कामगार लोग बैंक शाखा के बाहर खड़े रहते है. । मगर पैसे मिलता है मात्र दो हजार। आदमी खाये क्या और बचाये क्या। सुबह से भूखे प्यासे लाइन में खड़े कई ग्राहकों ने बताया कि हम सात दिनों से पैसे के लिए परेशान हैं। मगर मिलता है सिर्फ कल का भरोसा। किसी को बूढ़े माँ बाप को इलाज कराना है, तो किसी को वेतन निकालना है। परंतु पैसे के नाम पर सिर्फ अगले दिन का दिलासा दिया जाता है।

ये भी पढे़ं:-   पूर्वी चंपारणः अश्लील वीडियो वायरल होने पर भड़का लोगो का गुस्सा, दो गुटो में तनाव, जानिए मामला

andhrathadi

Advertisement

प्रखंड मुख्यालय स्थित स्टेट बैंक, पीएनबी बैंक, उत्तर भारतीय ग्रामीण बैंक शाखा के अलावे इलाहाबाद बैंक ननौर, पीएनबी कुल्हड़िया और विभिन्न ग्रामीण बैंको में पैसो की घोर किल्लत है। सभी एटीएम बंद पड़ा हुआ है। ग्राहक सेवा केंद्र स्थाई रूप से 15 दिनों से बंद है। नोट बंदी के समय घर कारोबार के लिए रखे पैसे बैंक में जमा कर दिया था। लोगो को लगा कि समय पर पैसे निकाल कर सभी जरूरी कार्य कर लेंगे। मगर जब मौका आया तो पैसे के लिए भटक रहे है। क्षेत्रय में पूरी तरह आर्थिक संकट का आपातकाल उत्पन्न हो गया है। 

ये भी पढे़ं:-   दिल्ली में राहुल गांधी के साथ जारी है बिहार कांग्रेस की बैठक, पदाधिकारियों से वन टू वन मिलेंगे राहुल

इस संबंध में एस बी आई अंधराठाढ़ी के शाखा प्रबंधक ने पूछने पर बताया कि नोट की किल्लत पूरे देश मे है। जो नोट मिलता है बाटते है। राशि ख़त्म होने पर कैश नही है का बोर्ड लगा दिया जाता है । पीएनवी के शाखा प्रबंधक का कहना है कि राशि के अभाव में ग्राहकों की दवाव झेलते झेलते हम परेशान है। सभी ग्राहक सेवा बंद है। जो राशि मिलती है उसी से काम चला रहे है। 

Advertisement