शहीद के पिता बोले – अभी एक बेटा शहीद हुआ है, दूसरे को भी भारत मां की सेवा में भेज दूंगा

Advertisement

सेंट्रल डेस्क, साहुल पाण्डेय: कश्मीर के पुलवामा में आतंकी आत्मघाती हमले को लेकर पूरे देश में गुस्से है। इस आत्मघाती हमले में बिहार के भी दो जवान शहीद हो गए। बताया जाता है कि सीआरपीएफ जवानों के जिस काफिले पर हमला हुआ वो उसमें ज्यादातर जवान वे थे जो छूट्टी से अभी—अभी अपनी ड्यूटी पर पहुंचे थे। वहीं कई ऐसे भी जवान थे जो कुछ ही दिनों बात अपने परिवार के पास मिलने के लिए जाने वाले थे। शहीद होने वाले जवानों में बिहार के भी दो जवान भा्रलपुर के रतन ठाकुर और पटना के संजय कुमार सिन्हा हैं। दोनों ही जवानों के घरों में मातम पसरा हुआ है।

पटना के डीह में शहीद संजय के घर पर पसरा मातम

संजय बतौर हेड कॉस्टेबल सीआरपीएफ में तैनात थे। संजय के पिता महेंन्द्र प्रसाद भी सीआरपीएफ में अपनी सेवा दे चुके है। संजय हाल ही में 1 महीने की छट्टी के बाद ड्यटी पर पहुंचे थे। वहीं जब संजय ड्यूटी ज्वाइन करने के लिए झार से निकल रहे थे तो उन्होंने अपनी पत्नी बबीता देवी से कहा था कि वे 15 दिन की छूट्टी लेकर दोबारा घर आएंगे और बेटी रुबी की शादी पक्की करके ही वापस जाएंगे। लेकिन संजय को क्या पता था कि वे दोबारा अपने घर नहीं आ सकेंगे।

मातृभूमि की सेवा में इस बार उनकी जान न्योछावर हो जाएगी।शहीद संजय की बेटी रुबी ग्रेजुएशन की पढाई कर चुकी हैं। वहीं उनका बेटा कोटा में मेंडिकल की पढ़ाई कर रहा है। वहीं संजय के छोटे भाई भी बहुत मिलनसार सीआरपीएफ में अपनी सेवा दें रहे है। संजय के गांव वालें बताते हैं कि वे बहुत मिलनसार थे। हमेशा लोंगों की मदद के लिए वे तैयार रहते थे। संजय की शहादत की खबर से जहां एक ओर मातम पसरा है तो वहीं गांव वालों में पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा भी।

शहीद के पिता बोलें — दूसरे बेटे को भी देश को दे दूगां

वहीं इस आत्मघाती हमले में बिहार के ही भागलपुर जिले के रहनेवाले रतन ठाकुर भी शहीद हो गए है। रतन भागलपुर के अमदंदा के रतनपुर गांव के रहनेवाले थे। अपने बेटे की शहादत के बाद रतन के पिता ने मिसाल पेश की है। रतन के पिता ने बिना आंसू बहाए कहा कि वे अपना दूसरा बेटा भी देश के लिए न्योछावर कर देंगे। उन्होंने सरकार से भी कहा की वो पाकिस्तान का कोइ स्थाई हल निकाले।

रतन के पिता का बयान मीडिया से लेकर से सोशल मीडिया छाया हुआ है। लोग उन्हें सैल्यूट कर रहे है।रतन को एक बेटा है। उनकी पत्नी गर्भवती हैं। इस घटना के बाद से उनके परिवार में मातम छाया हुआ है।

बता दें कि पुलवामा में मारे जानेवाले 44 जवानों का शव दिल्ली लाए जा चुके हे। बिहार के दोनों वीर सपूतों का शव कल शनिवार को पटना पहुंचा है। बता दें कि इस हमले को लेकर बिहार में सियासत भी गर्म हैं बिहार के विपक्ष के नेता ऐसे मोके पर भी सियासत से बाज नहीं आ रहे है। बिहार के नेताप्रतिपक्ष तेजस्वी यादव और हम पार्टी के अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा है कि 56 इंच के सीनेवाले कार्रवाई क्यों नहीं कर रहे है। वहीं बिहार केे सीएम नीतीश कुमार ने भी इस हमले को लेकर अपनी संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि इस हमले से पूरा देश आहत में है। उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले पर कड़ी कार्रवाई करना चाहिए।