बिहार: जब वाजपेयी ने कहा कि इस सरकार को डस्टबीन में डाल दीजिए !

Advertisement

बात जनवरी 2005 की है जब बिहार में राष्ट्रिय जनता दल की सरकार थी। उस समय प्रदेश में अपहरण का धंधा जोरो पर था, साथ ही बिहार विधानसभा का चुनाव प्रचार चरम पर था। इसी दौरान पटना के दो स्कूली छात्रों किसलय और दीपक का अपहरण कर लिया गया था। किसलय का अपहरण 19 जनवरी को और दीपक का 25 जनवरी को हुआ था।

चुनाव प्रचार के लिए 27 जनवरी 2005 को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी भागलपुर यात्रा के क्रम में पटना में थे। उन स्कूली छात्रों के अपहरण पर वाजपेयी इतने अधिक गुस्सा हो गए कि पूछिए मत। गुस्से में वाजपेयी ने यहां तक कह डाला कि इस सरकार को डस्टबीन में डाल दीजिए।

भागलपुर के सभा में बिहार सरकार के विधि-व्यवस्था पर उन्होंने खूब खरी-खोटी सुनाए। उन्होंने कहा कि बिहार में अपराधी को सरकार का वरदहस्त प्राप्त है। भावुक होते हुए अपने अंदाज में सभा में कहा- मेरे किसलय और दीपक कहां चले गए हैं ? सरकार उनकी खोज खबर क्यों नहीं ले रही है ? मुझे पता चला है कि इस राज्य में लोगों को उठाकर ले जाने का धंधा जोरों पर है। अपहरण के धंधे को बंद करने के लिए राज्य सरकार के धंधे को ही बंद करना होगा।

उन्होंने राज्य सरकार के साथ-साथ प्रशासनिक पदाधिकारी को भी खूब कोसा। उन्होंने कहा कि लोगों को सुरक्षा प्रदान करने के बजाए प्रशासनिक अधिकारी मध्यस्थ की भूमिका निभाने में लगे हैं। कहा कि जब किसी राज्य में आम आदमी भय की छाया में रहता है तो फिर वैसे शासक को खत्म होना चाहिए। पटना हवाई अड्डे पर पत्रकारों को भी कहा था- मेरा किसलय मुझे वापस ला दो।

गौरतलब बात यह रही वाजपेयी द्वारा किसलय और दीपक के अपहरण के मामले को तूल देने के बाद दोनों छात्र तीन फरवरी को वापस घर लौट आए थे।