बिहार सरकार राज्य को सूखाग्रस्त घोषित कर किसानों को अविलंब राहत दे: डॉ रंजित कुमार

Advertisement

एक ओर जहां देश के कई हिस्सों में लगातार बारिश हो रही है तो वहीं दूसरी ओर बिहार राज्य में सूखे के हालात बनते जा रहे हैं। राज्य के 38 में से 28 जिलों में सूखा जैसी स्थिति है। रिपोर्ट्स के मुताबिक बिहार में इसबार 50% से भी कम बारिश हुई है। अनुमान तो यह भी लगया जा रहा है कि ऐसी ही स्थिति बनी रही तो यह तेजी से 1967 के अकाल का रूप ले सकती है। किसानों की फसल पानी के अभाव में नष्ट होने के कगार पर है।

स्वराज इंडिया पार्टी के बिहार प्रदेश अध्यक्ष डॉ। रंजित कुमार ने कहा है कि पानी के आभाव में ज्यादातर किसान फसल की बुआई ही नहीं किया है। वहीं कुछ किसान महाजन से कर्ज लेकर फसल की बुआई की थी वह भी नष्ट होने के कगार पर है। उन्होंने क्षोभ व्यक्त करते हुए कहा कि इन परिस्थितयों में भी अबतक राज्य को सूखाग्रस्त नहीं घोषित करना नितीश सरकार का किसानों के प्रति उदासीनता को दर्शाता है।

उन्होंने सरकार से मांग किया है कि बिहार सरकार राज्य को सूखाग्रस्त घोषित कर बिहार के किसानों को अविलंब राहत दे। साथ ही उन्होंने मांग किया है कि किसानों को मुफ्त डीजल और बिजली दिया जाए। ऐसा होनेपर ही कर्ज में डूबे किसानों को राहत मिल सकेगा।