किसानों को तोहफा, फसल की 1% क्षति पर भी मिलेगा 15 हजार रुपया

Advertisement

चुनावी साल में सरकारों द्वरा किसानों के हित में लगातार घोषनाओं का दौर जारी है। पहले केंद्र सरकार के द्वरा खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य में लगभग डेढ़ गुणा की बढ़ोतरी कर किसानों को लुभाने का प्रयास किया गया। और अब बिहार सरकार के द्वरा फसल क्षति पर बड़ी मुआवजे की घोषणा की गई है।

बिहार की राजधानी पटना स्थित सूचना भवन में शुक्रवार को सहकारिता विभाग की तरफ से आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में बिहार के सहकारिता मंत्री राणा रणधीर सिंह ने कहा कि राज्य सरकार ने बिना प्रीमियम के बिहार राज्य फसल सहायता योजना बनाई है जो कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से प्रेरित हो कर बनाई गई है। इसके अंतर्गत किसानों को दो हेक्टेयर तक 20 प्रतिशत से अधिक फसल का नुकसान होता है तो प्रति हेक्टेयर 10 हज़ार मुआवजा दिया जाएगा। यदि किसानों को 1 प्रतिशत भी नुकसान होता है तो 15 हज़ार रुपये की सहायता सरकार देगी।

इस मौके पर विभाग के मंत्री राणा रणधीर सिंह ने बताया कि धान की खरीद प्रदेश सरकार पैक्सों और बैंकों के माध्यम से करती है। मंत्री ने यह भी बताया कि पैक्सों को किसान कल्याण केंद्र के रूप में कंप्यूटराइज किया जाएगा। इसके लिए राज्य सरकार पैक्सों को यांत्रिक सुविधा देगी जिसमें ट्रैक्टर, पंम्पिंग सेट, फसलों के कटिंग यंत्र जैसी सुविधाएं देगी ताकि किसानों को किसी तरह की समस्या न हो। इन यांत्रिक सुविधाओं को किसान सस्ते दरों पर किराए पर ले सकेंगे।

अब देखना ये है कि अनियमितता के आरोपों से जूझने वाली पैक्स इन यांत्रिक सुविधाओं को कैसे इस्तेमाल करती है।