युवाओं के लिए खुशखबरी: सरकार निकालने जा रही है बम्पर वैकेंसी !

Advertisement

बिहार सरकार परिवहन विभाग का अलग पुलिस सिपाही दस्ता तैयार करने पर विचार कर रही है। इसके लिये परिवहन विभाग ने प्रस्ताव तैयार कर लिया है। ये प्रस्ताव वित्त और विधि विभाग को भेजा गया है। जानकारी के मुताबिक भर्ती प्रक्रिया पूरी होने तक इस काम में सैप यानी स्पेशल ऑग्जीलरी पुलिस की सेवा ली जायेगी।

यह पहल प्रदेश में लगातार बढ़ रही ओवर लोडिंग पर अंकुश लगाने और सड़क सुरक्षा व्यवस्था को मुकम्मल अमलीजामा पहनाने के उद्देश्य से शुरू की गई है। नियमावली के अनुसार छह सौ परिवहन सिपाहियों का कैडर प्रदेश स्तरीय होगा, विभाग जरूरत के अनुसार जिलों में सिपाहियों की तैनाती करेगा। इस नियमावली में परिवहन सिपाहियों को विभागीय परीक्षा के आधार पर पदोन्नति देने का भी प्रावधान किया जा रहा है।

वर्तमान प्रस्ताव में पटना, गया, भागलपुर, मुजफ्फरपुर और दरभंगा जैसे बड़े जिलों में 20 और अरवल एवं शिवहर जैसे छोटे जिलों में पांच परिवहन सिपाही की तैनाती का प्रावधान किया गया है। भर्ती प्रक्रिया से संबंधित जिम्मेदारी गृह व पुलिस मुख्यालय को देने का प्रस्ताव तैयार किया गया है। पुलिस मुख्यालय केंद्रीय चयन पर्षद (सिपाही भर्ती) को यह जिम्मेदारी देगा।

दरअसल, वर्तमान में जिलों में डीटीओ और एमवीआइ के आग्रह पर औचक निरीक्षण के लिए होम गार्ड की सेवा मुहैया कराई जाती है। परिवहन विभाग इसके लिए सेवा शुल्क का भुगतान करता है। नियुक्ति की प्रकिया को लेकर जल्द ही अधिसूचना जारी होने की संभावना है।