खुद पर लगातार केस दर्ज होने से परेशान थे, इस लिए कर दी दो सगी बहनो की हत्या, जानिए मामला

crime-purniya
crime-purniya
Advertisement

पूर्णिया। जिले के जलालगढ़ गांव दो बहनो की हत्या के मामले में बड़ा खुलासा सामने आया हैं। बताया जा रहा है कि आरोपियो ने अपने उपर हो रहे लगातार मुकदमे से बचने को लेकर इस हत्या के वारदात को अंजाम दिया। बता दे कि जलालगढ़ गांव के 16 लोगों ने मिल कर दो बहनों की हत्या की थी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार इस मामले में कार्रवाई करतजे हुए स्थानिय पुलिस ने बड़ा खुलासा करते हुए महज 24 घंटे के भीतर पूरे मामले को सुलझा लिया है। पुलिस ने बताया है कि इस मामले में आरोपित 4 लोंगो को गिरफ्तार कर लिया है। ये चारो आरोपी जलालगढ़ थाना क्षेत्र के चक पंचायत के रहनेवाले बताये जा रहे हैं। गिरफ्तार आरोपियो के बारे में बताते हुए पूर्णिया के एसपी विशाल शर्मा ने बताया कि इस हत्याकांड में गिरफ्तार अभियुक्तों की बयान के आधार पर मृतका के सिर को खोजने में सफलता मिली है।

उन्होने बताया कि अभियुक्तों ने पूछताछ के दौरान बताया है कि इन दोनों बहनों द्वारा चारों अभियुक्तों के साथ-साथ गांव के एक दर्जन लोगों पर बराबर केस दर्ज कराया जाता था। जिससे वे सभी परेशान थे और इसी से तंग आकर इन सबने मिलकर दोनो बहनों को रास्ते से हटाने का प्लान बनाया। इसी प्लान के तहत 22 जून की रात उन तमाम लोगों ने दोनों बहनों को पकड़ कर पहले उसके साथ मारपीट की और फिर बिलरिया धार के पास ले जाकर दोनों की सिर काट कर हत्या कर दी। शव की पहचान छुपाने के उद्देश्य से दोनों बहनों के धर को बिलरिया धार के निकट तथा कटे सिर को लगभग एक किमी पूरब श्मशान घाट के उत्तर स्थित तालाब में छिपा दिया।

एसपी शर्मा ने बताया कि इस मामले में चार लोगों की गिरफ्तार के बाद इस कांड में शामिल अन्य 13-14 लोगों की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है. सभी हत्यारे चक पंचायत के रहनेवाले हैं। इसम मामले में अभियुक्तों में वीरेंद्र सिंह उर्फ हट्टा, लक्ष्मी दास उर्फ रामची, बुद्धु शर्मा एवं जितेंद्र शर्मा सभी चक पंचायत जलालगढ़ के रहनेवाले हैं. इसके अलावा दिलीप शर्मा, विनोद ततमा, प्रकाश ततमा, सोनू शर्मा, रामलाल शर्मा , विष्णुदेव शर्मा, पप्पू शर्मा, उपेन शर्मा, बिनोद ततमा, इंदल शर्मा, सुनील शर्मा , सतीश शर्मा, बेचन शर्मा आदि अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है।

ब्ताते चले कि चक पंचायत की रहनेवाली माला देवी और कलावती देवी दोनों सगी बहनें थीं, जो सोशल एक्टिविस्ट के रुप में यहां काम भी कर रहीं थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here