तमिलनाडु में योगेंद्र यादव को पुलिस ने हिरासत में लिया, प्रदेश अध्यक्ष ने दिया कड़ी प्रतिक्रिया

Advertisement

स्वराज इंडिया पार्टी के नेता योगेंद्र यादव को शनिवार को तमिलनाडु पुलिस ने हिरासत में ले लिया। बता दें कि राज्य के तिरुवन्नमलाई में वो 8-लेन सलेम चेन्नई एक्सप्रेसवे के विरोध में किसानों के साथ प्रदर्शन में शामिल होने जा रहे थे । उन्हें विरोध करने वाले अन्य साथियों के साथ पास के ही एक मैरिज हाल में रखा गया है।

योगेंद्र यादव ने पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाया है। उन्होंने एक विडियो जारी करके कहा है कि यहाँ किसानों की जमीन बिना उसकी मर्जी के अधिग्रहण किया जा रहा है। मैं उन किसानों के बुलावे पर यहाँ आया हूँ। उन्होंने आगे कहा कि हम यहाँ जांच करने आए हैं कि आखिर किसानों की समस्या क्या है? उनका मत क्या हैं? उनके अनुसार वो सुबह एक गॉव में कुछ किसानों के साथ मीटिंग करने के बाद एक दुसरे गॉव में किसानों से मिलने जा रहे थे उसी समय उन्हें पुलिस ने कानून व्यवस्था का हवाला देते हुए रोक लिया और उन्हें और उनके साथी को घसीटते हुए हिरासत मे ले लिया।

इस घटना पर स्वराज इण्डिया पार्टी के बिहार प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रंजित कुमार ने कड़ी प्रतिक्रिया दिया है। उन्होंने कहा कि पुलिस की यह करतूत स्वस्थ्य लोकतंत्र का गला घोटने का काम किया है। क्या किसानों कि समस्या सुनना और उनसे मिलना ,समर्थन करना ,मदद करना गलत है ? लगता है सरकार की नज़र में यह एक गुनाह का रूप लेता जा रहा है, जिसका लोकतंत्र में कहीं जगह नहीं है। लोकतांत्रिक और शांतिपूर्ण तरीके से योगेन्द्र यादव जी तथ्यों को जानने का प्रयास कर रहे थे। तमिलनाडु सरकार और पुलिस के द्वरा किसानों के आवाज को दबाने का प्रयास किया गया है। उनकी इस करतूत जितनी भी निंदा किया जाए कम है। उन्होंने आगे कहा सरकार चाहे कितनी भी दमन क्यों न करें लेकिन स्वराज इंडिया किसानों के हक़ के लिए संघर्ष करती रहेगी।