बिहार में इस साल एक करोड़ पौधारोपण करने का लक्ष्य, ये है प्लान

Advertisement

आगामी 01 से 10 अगस्त,2018 तक मनाए जाने वाले वन महोत्सव के लिए सोमवार को उपमुख्यमंत्री सुशिल मोदी की अध्यक्षता में मुख्य सचिवालय स्थित सभाकक्ष में जनसहभागिता के लिए 40 से अधिक संस्थाओं के साथ बैठक हुई। हरित आवरण क्षेत्र बढ़ाने के लिए पूरे बिहार में सघन अभियान चला कर इस साल एक करोड़ पौधारोपण करने का लक्ष्य है। वन महोत्सव के दौरान स्कूल, अस्पताल व अन्य संस्थाओं के परिसर, सड़क, नहर व बांधों के किनारे पौधारोपण के लिए वन विभाग इच्छुक संस्थाओं को निःशुल्क पौधा उपलब्ध करायेगा।

सुशील मोदी ने कहा कि इस साल वर्षाकाल में वन प्रमंडलों द्वारा 49 लाख और वानिकी कार्यक्रम के तहत किसानों द्वारा 58 लाख पौधे लगाये जायेंगे। ‘हर परिसर, हरा परिसर’ कार्यक्रम के अंतर्गत 258 संस्थानों में 80 हजार, नमामि गंगे कार्यक्रम के तहत 3 लाख 63 हजार पौधे, गंगा वृक्षारोपण और 216 स्थलों जिनमें विद्यालय व अन्य संस्थानों के परिसर शामिल हैं, जिसमें 1-1 लाख पौधे लगाये जायेंगे। एनएच के 120 किमी पथ पर 1.12 लाख पौधे लगाने की योजना है।

वन महोत्सव के दौरान पटना जिला में 2 लाख और पटना शहर में 1 लाख पौधारोपण किया जायेगा। इनमें 27 हजार पौधे गेबियन में लगाये जायेंगे। 8 किमी लम्बे दीघा-एम्स पथ पर वन महोत्सव के दौरान एक दिन में 2 हजार बड़े पौधे लगाये जायेंगे। महोत्सव के दौरान वन विभाग की 10 टीम पौधे और मजदूरों के साथ तैनात रहेंगी, संस्थानों की सूचना पर वहां जाकर पौधारोपण करेगी।

सुशील मोदी ने आम लोगों, जनप्रतिनिधियों, स्वयं सेवी संस्थाओं व पर्यावरण संरक्षण से जुड़े लोगों से अपील की कि वे इस अभियान से जुड़ कर कार्यक्रम आयोजित कर पौधारोपण करें व इसे जनआंदोलन का स्वरूप दें। निजी तौर पर पौधारोपण करने वालों को छोटे ट्यूब वाले पौधों के लिए 05 और बड़े ट्यूब वाले पौधों के लिए 10 रुपये देना होगा।

बैठक में पर्यावरण व वन विभाग के प्रधान सचिव, प्रधान मुख्य वन संरक्षक, पटना के आयुक्त, जिलाधिकारी, मेयर सीता साहू, चाणक्या लॉ विवि की कुलपति मृदुला मिश्रा, आईजीआईएमएस के चिकित्सा अधीक्षक डा। मनीष मंडल, तरूमित्र के संयोजक फादर रॉबर्ट, बीआईए, बिहार चैम्बर ऑफ कॉमर्स, केवी दानापुर बेली रोड, कॉलेज ऑफ कॉमर्स, अरविन्द महिला कॉलेज आदि के प्रतिनिधि शामिल हुए।