हाईकोर्ट का अहम फैसला: अब बिना शर्त छोड़े जायेंगे नशे की हालत में पकडे गए वाहन

Advertisement

उत्पाद अधिनियम के उल्लंघन में पकड़े गए वाहनों को छोडऩे के मामले में पटना हाईकोर्ट ने बुधवार को एक अहम फैसला दिया है। मुख्य न्यायाधीश राजेन्द्र मेनन एवं न्यायाधीश राजीव रंजन प्रसाद ने पंचदेव लाल की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह फैसला दिया है। नशे की हालत में यदि किसी व्यक्ति के वाहन को पकड़ लिया गया है तो उसे अब बिना किसी शर्त पर रिलीज करना होगा। बशर्ते पकड़ी गई गाड़ी मादक द्रव्य अथवा शराब के कारोबार में संलिप्त नहीं रहा हो। 

खंडपीठ ने कहा कि जब नशे की हालत में पकड़े गये ऑनर की गाडिय़ों को जब्त करना ही गलत था तो उसे छोडऩे के लिए शर्त लगाने का औचित्य नहीं है। बताते चलें कि अभी तक वाहनों को रिलीज कराते समय निजी मुचलके एवं बैंक गारंटी की जरूरत पड़ती है। साथ ही गाडिय़ों पर केस चलता रहता था।

याचिकाकर्ता पंचदेव का कहना था किउनके भाई व उसके दोस्त को गोपालगंज में नशे की हालत में उनकी हीरोहोंडा मोटर साइकिल चलाते पकड़ा गया था। दोनों की जमानत तो हो गई लेकिन उनके वाहन को जब्त कर लिया गया। अदालत ने बिना किसी शर्त उनकी मोटर साइकिल को रिलीज करने का आदेश दिया। इस फैसले के बाद हजारों गाड़ियाँ रिलीज हो जायेंगी।