कांग्रेस बोली – महागठबंधन में नीतीश कुमार की नो इंट्री

priyanka-and-nitish
priyanka-and-nitish
Advertisement

पटना। बिहार की राजनीति में एक नया मोड़ फिर से आ गया है। पहले जहां राजद और कांग्रेस में नीतीश कुमार के महागठबंधन में शामिल करने को लेकर राय अलग- अलग थी वहीं अब कांग्रेस ने भी जदयू के लिए महागठबंधन में नो एंट्री का बोर्ड लगा दिया है।

जनता दल यूनाइटेड (जदयू) को महागठबंधन में शामिल करने को लेकर अपना स्टैंड क्लियर करते हुए कांग्रेस ने साफ कर दिया है कि नीतीश कुमार के लिए महागठबंधन में कोई जगह नहीं है। बता दे कि इससे पहले कांग्रेस कइ्र नेताओ ने नीतीश कुमार को महागठबंधन में लेने का समर्थन किया था।

बता दे कि ये फैसला कांग्रेस ने जदयू के उस बयान को लेकर किया है जो उसने लालू यादव को लेकर किया है। जदयू ने महागठबंधन छोड़ने के कारण की चर्चा करते हुए इसके लिए कांग्रेस द्वारा भ्रष्टाचार के मुद्दे पर साथ नहीं मिलना भी बताया था। साथ में यह भी कहा था कि नीतीश कुमार ने लालू प्रसाद के भ्रष्टचार के मुद्दे पर राहुल गांधी से मुलाकात की थी, लेकिन राहुल गांधी ने उदासीनता बरती।

कल दिल्ली में जदयू की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक जदयू के वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी ने कहा था कि बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल सहित कई नेताओं ने नीतीश कुमार से महागठबंधन में शामिल होने की अपील की है। लेकिन, कांग्रेस जब तक राष्ट्रीय जनता दल (राजद) जैसे भ्रष्ट दल के साथ कांग्रेस अपना स्टैंड साफ नहीं करती, यह संभव नहीं है।

लालू के साथ खड़ी कांग्रेसः- केसी त्यागी के इस बयान को लेकर कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि उन्होंने कभी भी नीतीश कुमार से महागठबंधन में शामिल होने का आग्रह नहीं किया। लालू प्रसाद यादव को लेकर गोहिल ने कहा कि राजद को लेकर कांग्रेस का स्टैंड बिलकुल साफ है।

ये भी पढ़े  600 करोड़ के विशेष पैकेज से होगा बिहार पर्यटन का विकास: सुमो

कांग्रेस को इसपर दोबारा विचार करने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होने आगे कहा कि नीतीश कुमार का महागठबंधन में स्वागत नहीं है। वे कांग्रेस को सुझाव देने के बदले आत्मविश्लेषण करें। विचार करें कि उन्होंने अपनी क्या स्थिति कर ली है।

वहीं कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने भी इस मामले पर बोलते हुए कहा है कि महागठबंधन तोड़ने के लिए नीतीश कुमार कांग्रेस को दोष न दें। नीतीश कुमार महागठबंधन से बाहर जाने का मन बना चुके थे, वे केवल बहाना खोज रहे थे। प्रियंका ने कहा कि बिहार की जनता ने महागठबंधन को वोट दिया था।

चुनाव में राजद को जदयू से अधिक सीटें मिलीं थीं। ऐसी हालत में नीतीश कुमार द्वारा गठबंधन तोड़कर विपक्षी गठबंधन (राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन) हाथ मिलाना जनमत अपमान था। नीतीश कुमार से इसका हिसाब जनता आगामी चुनावों में लेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here