बाबासाहेब आंबेडकर के 62 वे महापरिनिर्वाण दिवस मनाया गया

seohar news
Advertisement

मोहम्मद हसनैन की रिपोर्ट-

शिवहर:भारतीय संविधान निर्माता, बोधिसत्व, भारत रत्न परम पूज्य बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी के 62 महापरिनिर्वाण दिवस के अवसर पर जिला पदाधिकारी अरशद अजीज, पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार, डीडी सी वारिस खान, अपर समाहर्ता शंभू शरण , जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी सह अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष मनन राम, एसडीएम मोहम्मद अाफ़ाक अहमद, वरीय उप समाहर्ता डॉअनिल कुमार दास सहित अन्य अधिकारी उपस्थित हुए। स्थानीय गांधी नगर भवन में अनुसूचित जाति जनजाति कर्मचारी संघ जिला इकाई द्वारा कार्यक्रम आयोजित किया गया था,सभी उपस्थित पदाधिकारियों ने बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर के चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धा सुमन अर्पित किए। शिवहर डीएम अरशद अजीज ने संबोधित करते हुए बताया कि बाबासाहेब दलित बौद्ध आंदोलन को प्रेरित किया था ,और अछूतों से सामाजिक भेदभाव के विरुद्ध अभियान चलाया था, श्रमिकों, किसानों और महिलाओं के अधिकारों का समर्थन भी किया था. श्री अजीज ने कहाँ कि डॉ० भीम राव अंबेडकर को जन्मजात प्रतिभा संपन्न महापुरुष थे, सन 1919 में डॉक्टर अंबेडकर ने राजनीतिक सुधार हेतु गठित साउथबॉरो आयोग के समक्ष राजनीति में दलित प्रतिनिधित्व के पक्ष में साक्ष्य दिया था और शिक्षित और निर्धन लोगों को जागरूक बनाने के लिए हुए जो महान कदम उठाया था आज वह सार्थक हो रहा है।

seohar news

 

शिवहर पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार ने अपने संबोधन में बताया है कि जीवन के 65 वर्षों में देश को राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक ,शैक्षणिक ,धार्मिक ऐतिहासिक ,सांस्कृतिक, साहित्यिक, औद्योगिक, संवैधानिक इत्यादि विभिन्न क्षेत्रों में अनगिनत कार्य करके राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण बाबासाहेब ने योगदान दिया था। मौके पर उपस्थित डीडीसी बारिस खान ,एसडीएम मोहम्मद आफाक अहमद सहित कई प्रशासनिक पदाधिकारियों ने बताया है कि बेजुबानो, शोषित और अशिक्षित लोगों को जगाने के लिए वर्ष 1927 से 1956 के दौरान मुकनायक ,बहिष्कृत भारत ,समता जनता और प्रबुद्ध भारत नामक 5 सप्ताहिक एवं पाक्षिक पत्र पत्रिकाओं का संपादन भी कर लोगों को जागरूक किया था।

seohar news

 

जबकि जिला लोक शिकायत निवारण पदाधिकारी सह अनुसूचित जनजाति जनजाति कर्मचारी संघ के जिलाध्यक्ष मनन राम ने बताया है कि कमजोर वर्गों के छात्रों को छात्रावास ,रात्रि स्कूल, ग्रंथालय के माध्यम से अपने दलित वर्ग शिक्षा समाज के जरिए आय अर्जित करने के लिए उन को सक्षम बनाया। उन्होंने भारत के विकास हेतु मजबूत तकनीकी संगठन का नेटवर्क ढांचा प्रस्तुत कर समाज को संघर्ष करने संगठित करने तथा शिक्षित करने का निर्देश पाल आया था आज हुआ सार्थक हो रहा है। कार्यक्रम का संचालन वरीय उप समाहर्ता डॉक्टर अनिल कुमार दास ने की जबकि कार्यक्रम को संबोधित करने वालों में पूर्व जिला पार्षद अजब लाल चौधरी, रामएकबाल राय क्रांति जदयू, सेवा निवृत शिक्षक शंकर प्रसाद सिंह, मुखिया प्रतिनिधि वीरेंद्र साह, मुखिया शत्रुघ्न दास, अखिलेश्वर कुमार बैठा रामविनय राम, रामविनय पासवान, प्रमुख प्रतिनिधि गजाधर बैठा, सहित कई समाजसेवी एवं संगठन आदि मौजूद थे।