दोपहिया वाहन के गुजरने से भी थरथराने लगता है यह पुल

Advertisement

मो. हसनैन की रिपोर्ट

सरकार द्वारा भले ही गांव-गांव में विकास का दावा किया जाता हो लेकिन इन दावों के विपरीत कई गांव तक आज भी विकास की रोशनी नहीं पहुंच पाई है। आज हम बात कर रहे हैं शिवहर जिला के तरियानी प्रखंड के नरवारा गांव के विषय में, इस इलाके में ज्यादातर सड़कें जर्जर है।

इस इलाके में एक पुल है जो सोनवर्षा से तुर्की को जोड़ता है जिसे देखकर सरकार की सभी दावों की पोल खुल जाती है। यह पुल करीब करीब 5000 की आबादी को प्रभावित करती है या फिर कह सकते हैं कि लोगों का आना जाना होता है। यह पुल अत्यंत ख़राब स्थिति में है।

स्थानीय निवासी गौरव कुमार सिंह बताते हैं कि जब पुल से कोई वाहन यहाँ तक की दुपहिया वाहन भी गुजरता है तो पुल काफी थरथराने लगती है। अगर यथाशीघ्र इस दिशा में या फिर समस्या के समाधान के लिए प्रयास नहीं किया गया तो कोई बड़ा हादसा संभव है। आपको बता दें कि यह पुल दशकों पुराना है अब वहां नया पुल बनाए जाने की शख्त आवश्यकता हैबात करने के क्रम में कुछ स्थानीय लोगों ने बताया कि जब पुल से हम गुजरते हैं तो दुष्यंत कुमार की कविता याद आती है

तू किसी रेल सी गुज़रती है,
मैं किसी पुल सा थरथराता हूं।