‘सीतायन’ की रचना करेंगे मिथिला के विद्वान, जानकी जन्मोत्सव पर संगोष्ठी-सांस्कृतिक कार्यक्रम

janki janmotsav by maithili bhojpuri academy and vaidehi foundation
janki janmotsav by maithili bhojpuri academy and vaidehi foundation
Advertisement

जानकी जन्मोत्सव के अवसर पर देश के अलग-अलग हिस्सों में कई कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। देश की राजधानी दिल्ली में भी मैथिली भोजपुरी अकादमी और वैदेही फाउंडेशन ने जवाहर लाल नेहरु युवा केंद्र के एनडी तिवारी भवन में जानकी जन्मोत्सव 2018 का किया आयोजन। इस अवसर पर संगोष्ठी और सांस्कृतिक कार्यक्रम में दिल्ली-एनसीआर के सैकड़ों लोग उपस्थित हुए।

janki janmotsav in delhi
janki janmotsav in delhi

मैथिली भोजपुरी अकादमी, दिल्ली के उपाध्यक्ष नीरज पाठक ने कहा कि भारतीय जनमानस के लिए जनकसुता सीता एक जीवन दर्शन हैं। सीता मिथिला सहित समस्त महिलाओं के लिए एक संबल हैं। उन्होंने कहा कि जीवन जीने के लिए जितना जरूरी गीता है, हम मिथिलावासियों के लिए उतनी ही जरूरी मां सीता हैं। मैथिली भोजपुरी अकादमी और वैदेही फाउंडेशन के संयुक्त तत्वावधान में जानकी जन्मोत्सव 2018 का आयोजन किया गया। कार्यक्रम की औपचारिक शुरूआत मां सीता के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करके हुई। वैदेही फाउंडेशन के अध्यक्ष अमरनाथ झा ने सीता के जीवन चरित और कार्यक्रम के रूपरेखा पर प्रकाश डाला।

janki janmotsav
janki janmotsav

संगोष्ठी में श्रीमती अल्पना झा, डाॅ अराधना प्रधान, डाॅ कैलाश कुमार मिश्र, जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के प्रोफेसर डाॅ देवशंकर नवीन ने सीता के जीवन की घटना-परिघटनाओं और साहित्यिक कृतियों की बात करते हुए मिथिला में सीता की महत्ता और उपादेयता पर प्रकाश डाला। डाॅ देवशंकर नवीन ने सीता को केंद्र में रखकर मिथिला के लिए शोध करने की बात पर जोर दिया वहीं दूसरी तरफ ब्रेन कोठी के चेयरमैन डॉ कैलाश मिश्र ने कहा कि रामायन की रचना राम के चरित्र को केंद्र में रखकर की गई लेकिन अब मिथिला के विद्वानों को चाहिए की वे सब सीता के चरित्र को केंद्र में रखकर सीतायन की रचना करें।दिल्ली के पूर्व सांसद महाबल मिश्रा, दिल्ली प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष मनीष सिंह, पूर्वांचल एकता मंच के शिवजी सिंह, दीपक फाउंडेशन के चेयरमैन दीपक झा वरिष्ठ पत्रकार पंकज प्रसून, दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी पूर्वांचल मोर्चा के महासचिव तपन झा आदि गणमान्य अतिथियों को आयोजकों की ओर से मखाना और मिथिला पेंटिंग देकर सम्मानित किया गया। माया एनजीओ, पूर्वांचल एकता मंच के संयोजक शिवजी सिंह को कार्यक्रम के संचालन में अहम भूमिका के लिए सम्मानित किया गया।

Advertisement

इस आयोजन में सविता झा, कुमकुम झा आदि लोगों ने सीता पर केंद्रित कविताओं का पाठ किया। साथ ही नृत्य नाटिका भी प्रस्तुत किया गया।

Advertisement