वर्ल्ड कप जीत दिलाने वाले गौतम गंभीर ने सन्यास लिया

gautam gambhir
Advertisement

Rupak J की रिपोर्ट

गौतम गंभीर ने क्रिकेट सभी प्रारूपों से सन्यास लिया उन्होंने देश के लिए 15  साल से भी अधिक क्रिकेट खेला मंगलवार के दिन उन्होंने टि्वटर कर लोगों तक संदेश दिया! उन्होंने कहा कि गुरुवार से शुरू हो रहे फिरोजशाह कोटला में आंध्र प्रदेश के खिलाफ यह मेरा आखिरी मैच होगा फिलहाल वह अभी दिल्ली टीम के खिलाड़ी हैं. गौतम गंभीर ने देश के लिए 58 टेस्ट मैच खेले जिसमें नौ शतक के साथ 4154 रन बनाए और 147 वनडे में 11 शतक के साथ 5238 रन बनाए साथ-साथ 37 t20 मैच खेले जिसमें सात अर्धशतक के साथ 932 रन बनाए तथा उन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में भी 197 मैच खेले जिसमें 42 शतक और 68 अर्धशतक के साथ 15041 रन बनाए। कुछ दिन पहले वे रणजी में दिल्ली टीम के कैप्टन थे लेकिन खराब फॉर्म के चलते उन्होंने दिल्ली की कप्तानी को छोड़ दिया अब वह मात्र एक ओपनर बैट्समैन है! अन्तिम टेस्ट मैच 2012 में पाकिस्तान और वनडे 2013 इंग्लैंड के खिलाफ खेला। gautam gambhir आपको बता दे की गौतम गंभीर ने भारत को दोनों वर्ल्ड कप जीत दिलाने में उनकी भूमिका बहुत अहम थी। उन्होंने t20 मैच तथा 2011 वर्ल्ड कप में जबरदस्त बैटिंग के साथ भारत को जीत दिलाई। उन्होंने t20 मैच में 54 बॉल पर 75 रन की पारी के बदौलत भारत ने पाकिस्तान  को 1 चुनौती पूर्ण स्कोर दिया । तथा 2011 वर्ल्ड कप दौरान जब दोनों ओपनर सस्ते में निपट गए और जीत मुश्किल होती दिख रही थी तब गंभीर ने 3सरे नॉन्बर  पर आकर 122 बॉल पर बेहतरीन 97 रन की पारी खेली। लेकिन वो थोड़े से  अनलकी रहे मात्र 3 रन से अपना शतक पूरा नहीं कर पाए। इनकी इस पारी के चलते दूर दिख रही जीत आसान हुआ।

गौतम गभीर ने  कोलकाता नइटराइडर्स के लिए भी कप्तानी कर दो बार खिताब दिलाया।
शायद अब वो 1 नई पारी कैमेंटर बन कर शुरू करेंगे।
भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच t20 के दौरान उन्हें कमेंट्री करते देखा गया।